Begin typing your search...

आवास योजना और उत्तर प्रदेश सरकार की खुलेआम ग्राम प्रधान उड़ा रहे है धज्जियां- अधिकारी मौन,आवास के नाम पर बीस बीस हजार वसूले

आवास देने के नाम पर ग्राम प्रधान ने लिए गरीबो से 20-20 हजार रुपये

आवास योजना और उत्तर प्रदेश सरकार की खुलेआम ग्राम प्रधान उड़ा रहे है धज्जियां- अधिकारी मौन,आवास के नाम पर बीस बीस हजार वसूले
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

स्वप्निल द्विवेदी

बहराइच। जहाँ एक तरफ भारत सरकार व प्रदेश सरकार गरीबो को आवास और शौचालय देने का कार्य कर रही है, वही बहराइच जिले के तेजवापुर ब्लॉक के अंतर्गत मौजा कीर्तनपुर के मुन्नूपुरवा ग्राम का है, जहाँ ग्राम प्रधान ने ग्राम वासियो से आवास के नाम पर 20- 20 हजार रुपये ऐंठ लिए, और अभी भी ग्रामवासी आवास योजना से वांक्षित है " पैसे लेने का प्रमाण युवा गौरव समाचार पत्र के पास उप्लब्ध है" ग्रामवासियो का कहना है कि पहले पैसा दो फिर आवास मिलेगा, गांव के कुछ लोगों ने अपना खेत गिरवी रख कर प्रधान को पैसे दिए है, मगर अभी भी आवास नहीं मिला है।

गांव वालों का कहना की पैसे देने के बाद जब हम लोग अब जाते है और कहते है कि अब तो पैसे भी दे दिए है अब आवास दे दो, तो प्रधान कहते है की जाओ जब आएगा तब देंगे,जब हम लोग किसी से शिकायत करने की कोशिश करते हैं तो हम लोगों को मारने को धमकी देते है, और हम लोगो की कोई सुनता भी नहीं क्योकि प्रधान कहते है जहाँ जाना हो जाओ हम पैसे अधिकारी को देकर अपना काम सही कर लेंगे मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता। अब तो भगवान के भरोसे है अब तो हमारा पैसा भी प्रधान ने ले लिया है।




ग्रामविसियो ने शौचालय को लेकर भी ग्राम प्रधान लगाये गंभीर आरोप

यही हाल शौचालय का भी है, गांव वालों का आरोप की हम सभी लोगो के शौचालय के पैसे ग्राम प्रधान ने डरा कर ले लिए है, और कहा कि हम हम बनवाएंगे शौचालय और कुछ लोगो के घर के सामने पीला ईटा सो पीस में गिरवा दिए है, जब गांव वालों ने पीले ईंटे के लिए विरोध किया तो , प्रधान ने धमकी दी की शौचालय लेना है तो यही लगेगा , और हम ऐसे ही बनवाएंगे, नहीं तो नहीं मिलेगा जहाँ शिकायत करनी हो करो।

ग्राम प्रधान द्वारा आवास और शौचालय के नाम पर इस तरह पैसे उगाही करना सरकार की छवि को खराब करने की कोसिस कर रही है, अब ये देखना है कि क्या अधिकारी सरकार की छवि धूमिल होने से बचा पाएंगे या नहीं क्या प्रधान पर कोई करवाई होगी या नहीं।

Special Coverage News
Next Story
Share it