Top
Begin typing your search...

चुनाव आयोग की मिली अनुमति, बाराबंकी एसपी सतीश कुमार निलंबित

साइबर क्राइम सेल प्रभारी द्वारा व्यापारी से 65 लाख की वसूली मामले में संदिग्ध पाई गई थी एसपी कार्यालय की भूमिका

चुनाव आयोग की मिली अनुमति, बाराबंकी एसपी सतीश कुमार निलंबित
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: साइबर क्राइम सेल प्रभारी द्वारा व्यापारी से 65 लाख रुपये की वसूली के मामले में आखिरकार बाराबंकी के एसपी डॉ. सतीश कुमार पर कार्यवाही की गाज गिर गई। चुनाव आयोग से अनुमति मिलने के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने गुरुवार को उन्हें निलंबित कर दिया।

बाराबंकी साइबर क्राइम सेल के प्रभारी अनूप कुमार यादव द्वारा की गई वसूली में एसपी आफिस की भूमिका संदिग्ध पाई गई थी। इसी के चलते बाराबंकी एसपी के खिलाफ कार्यवाही की गई। डीजीपी आफिस से मिली जानकारी के मुताबिक बाराबंकी में नए एसपी की तैनाती के लिए चुनाव आयोग को तीन आईपीएस अफसरों के नामों की लिस्ट भेजी गई है। बताया जा रहा है कि गुरुवार शाम तक बाराबंकी के नए एसपी के नाम की घोषणा हो सकती है।

बता दें विश्वास ट्रेडिंग कंपनी के शंकर गायन ने लखनऊ में हजरतगंज कोतवाली में एफआईआर दर्ज कर साइबर क्राइम सेल के प्रभारी अनूप कुमार यादव व उसके साथियों पर 65 लाख रुपये की वसूली का आरोप लगाया था।

व्यापारी का आरोप था कि अनूप ने कंपनी के प्रसनजीत सरदार, शंकर गायन और धीरज श्रीवास्तव को कंपनी के खिलाफ दर्ज धोखाधड़ी के मामले की जांच के बहाने दस्तावेज के साथ 10 जनवरी को पुलिस अधीक्षक कार्यालय में बुलाया, वहां से अपने आवास ले जाकर 65 लाख की मांग के साथ कंपनी बंद कराने की धमकी दी।

उन्होंने डर के चलते 65 लाख दे दिए। अनूप ने 11 जनवरी को फिर बुलाया और जेल भेज दिया। राज्य सरकार विश्वास ट्रेडिंग के खिलाफ दर्ज धोखाधड़ी के मामले की जांच ईओडब्ल्यू को सौंप चुकी है।

Special Coverage News
Next Story
Share it