Top
Begin typing your search...

लुटेरी दुल्हन का छग में पर्दाफाश, सुहागरात मनाकर हो जाती थी फरार

लुटेरी दुल्हन का छग में पर्दाफाश, सुहागरात मनाकर हो जाती थी फरार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिलासपुर;- चेहरा मासूम और दिल में शैतानी का पर्दाफाश हो गया है. लुटेरी दुल्हन बड़े शैतानी तरीके से लोगों के लिए जाल बिछाती थी और शादी के बाद सब कुछ लेकर फरार हो जाती थी, ये जिसकी जिंदगी में गई खुशियां लेकर आई, लेकिन सुहागरात के बाद जब-जब चुपके से निकलती, तो सब कंगाल कर जाती थी. इसमें बिलासपुर के सरकंडा का भी एक शख्स इसका शिकार हुआ, जिस पर पुलिस ने पर्दाफाश किया है. उसके दो साथियों को MP से गिरफ्तार किया है.

दरअसल, लुटेरी दुल्हन का पर्दाफाश हुआ है. लुटेरी दुल्हन ने 6 लोगों से शादी कर रकम हड़प ली. आरोपी दुल्हन खुद दूसरे मामले में राजस्थान कोटा जेल में बंद है. सरकण्डा पुलिस प्रोडक्शन वारंट लेकर विधिवत कार्रवाई करेगी. पुलिस ने गैंग के दो अन्य सहयोगियों को नीमच मप्र से पकड़ा है. उनके पास से अल्टो कार, मोबाइल, चेकबुक और नकद जब्त किया है.

मिली जानकारी के मुताबिक सरकंडा के आयुर्वेदिक अस्पताल के पीछे रहने वाले मुंशी लाल पस्टारिया शिकायत की थी. साल 2016 में अपने विवाह संबंधी विज्ञापन समाचार पत्र में दिया था. विज्ञापन के आधार पर आशा शर्मा उर्फ आरती निवासी आरटीओ कार्यालय के पास जिला सागर म.प्र . द्वारा मोबाइल नंबर 7297924696 के माध्यम से उससे जान पहचान हुई.

दिनांक 04/12/2016 को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत आशा शर्मा से भोपाल में विवाह सम्पन्न हुआ. शादी के बाद दुल्हन 22 माह तक अपने 2 रिस्तेदार राहुल शर्मा और आशीष शर्मा के साथ संपर्क में रही, फिर मुंशी लाल का विश्वास हासिल कर जमीन के दस्तावेज छुड़वाने और अन्य बहानेबाजी कर 13,69,000 / – रू नगदी सोने चांदी के जेवर किमती करीब 65000 रू और उसका अल्टो कार क्रमांक सीजी 10 एएफ 1207 को वर्ष 2017 में लेकर फरार हो गई.

मामले की जांच के लिए बनाई गई टीम ने मप्र के नीमच से आशीष शर्मा और राहुल शर्मा को गिरफ्तार किया. आरोपियों ने बताया कि आशा शर्मा उनकी मां है. आरोपी मां ने अपने बेटों के सहयोग से इंदौर , देवास , दुर्ग छ.ग, जयपुर राजस्थान के लोगों से भी शादी कर धोखाधड़ी की है.

मिली जानकारी के मुताबिक सरकंडा के आयुर्वेदिक अस्पताल के पीछे रहने वाले मुंशी लाल पस्टारिया शिकायत की थी. साल 2016 में अपने विवाह संबंधी विज्ञापन समाचार पत्र में दिया था. विज्ञापन के आधार पर आशा शर्मा उर्फ आरती निवासी आरटीओ कार्यालय के पास जिला सागर म.प्र . द्वारा मोबाइल नंबर 7297924696 के माध्यम से उससे जान पहचान हुई.

दिनांक 04/12/2016 को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत आशा शर्मा से भोपाल में विवाह सम्पन्न हुआ. शादी के बाद दुल्हन 22 माह तक अपने 2 रिस्तेदार राहुल शर्मा और आशीष शर्मा के साथ संपर्क में रही, फिर मुंशी लाल का विश्वास हासिल कर जमीन के दस्तावेज छुड़वाने और अन्य बहानेबाजी कर 13,69,000 / – रू नगदी सोने चांदी के जेवर किमती करीब 65000 रू और उसका अल्टो कार क्रमांक सीजी 10 एएफ 1207 को वर्ष 2017 में लेकर फरार हो गई.

मामले की जांच के लिए बनाई गई टीम ने मप्र के नीमच से आशीष शर्मा और राहुल शर्मा को गिरफ्तार किया. आरोपियों ने बताया कि आशा शर्मा उनकी मां है. आरोपी मां ने अपने बेटों के सहयोग से इंदौर , देवास , दुर्ग छ.ग, जयपुर राजस्थान के लोगों से भी शादी कर धोखाधड़ी की है.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it