Top
Begin typing your search...

कब है नाग पंचमी, जानें तिथि, मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

नाग पंचमी व्रत के लिए तैयारी चतुर्थी के दिन से ही शुरू हो जाती हैं।

कब है नाग पंचमी, जानें तिथि, मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सनातन संस्कृति में नाग को पूजनीय माना गया है। हर साल श्रावण माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी मनाई जाती है। यह दिन पूर्ण रूप से नाग देवता को समर्पित है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, नाग पंचमी के दिन नाग देवता की आराधना करने से भक्तों को उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है और कई अन्य प्रकार के भी शुभफल प्राप्त होते हैं।

मान्यता के अनुसार ऐसा माना जाता है कि नाग देवता, धन की देवी मां लक्ष्मी की रक्षा करते हैं। इस दिन श्रीया, नाग और ब्रह्म अर्थात शिवलिंग स्वरुप की आराधना से मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है। जिस व्यक्ति कुंडली में कालसर्प दोष होता है तो उसे इस दोष से बचने के लिए नाग पंचमी का व्रत अवश्य करना चाहिए। यदि आपको अक्सर सपने में सांप दिखाई देता है या फिर आपको सांप से अधिक डर लगता है तो आपको विधि-विधान से सांप की पूजा करनी चाहिए। विशेष रूप से नागपंचमी के दिन जरूर नाग की पूजा करें। इससे सांपों को लेकर आपका भय दूर हो जाएगा।

नाग पंचमी का मुहूर्त

पंचमी तिथि 12 अगस्त 2021 को दोपहर 03:24 मिनट से प्रारंभ हो कर 13 अगस्त 2021 की दोपहर 01:42 बजे तक रहेगी। नाग पंचमी का पूजा मुहूर्त 13 अगस्त को सुबह 05:49 बजे से लेकर सुबह 08:28 बजे तक रहेगा।

नाग पंचमी की पूजा विधि

नाग पंचमी व्रत के लिए तैयारी चतुर्थी के दिन से ही शुरू हो जाती हैं।

चतुर्थी के दिन एक समय भोजन करें।

इसके बाद पंचमी तिथि के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें।

पूजा के लिए नागदेव का चित्र चौकी के ऊपर रखें।

फिर हल्दी, रोली, चावल और फूल चढ़ाकर नाग देवता की पूजा करें।

कच्चा दूध, घी, चीनी मिलाकर लकड़ी के पट्टे पर बैठे सर्प देवता को अर्पित करें।

पूजा के बाद सर्प देवता की आरती उतारी उतारें।

अंत में नाग पंचमी की कथा अवश्य सुनें।




सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it