Begin typing your search...

घर मे इस दिशा मे शीशा लगाने से आती है नकारात्मक ऊर्जा, जानिए सही दिशा मे शीशा लगाने का फायदा

घर मे इस दिशा मे शीशा लगाने से आती है नकारात्मक ऊर्जा, जानिए सही दिशा मे शीशा लगाने का फायदा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

दर्पण सिर्फ सजावट के लिए नहीं होते हैं; बल्कि वास्तु के अनुसार दर्पण की एक और उपयोगिता है: यदि सही ढंग से रखा जाए, तो वे नकारात्मकऊर्जाओं को प्रतिबिंबित या रोकते हुए सकारात्मक ऊर्जा खींच सकते हैं। घर में उचित रूप से दर्पण लगाने से वास्तु दोषों को ठीक करने में मदद मिल सकती है। पैसा बढ़ाए जब कैश लॉकर के सामने शीशा लगाया जाता है, तो यह लॉकर में धन की मात्रा को दोगुना करता है। यह सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करताहै, यह सुनिश्चित करता है

कि वित्तीय स्थिति में सुधार हो। वास्तु शास्त्र की मान्यताओं और सिद्धांतों के अनुसार, यदि किसी नकारात्मक चीज के सामने दर्पण रखा जाता है, तो दर्पण उस "वस्तु" से सभीनकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर लेगा। नतीजतन, अपने घर या कार्यालय में दर्पण स्थापित करते समय, सुनिश्चित करें कि वे सभी वास्तु नियमों और दिशानिर्देशों के अनुसार रखे गए हैंताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपका घर या कार्यालय केवल सकारात्मक और प्रगतिशील ऊर्जा को आकर्षित और दोगुना करता है। सही स्थान के साथ अच्छा दर्पण वास्तु हमेशा याद रखें कि वास्तु के सिद्धांतों के अनुसार गलत तरीके से रखा गया दर्पण आपके घर को अच्छे से ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है। शीशेको एक दूसरे के विपरीत रखने से बिल्कुल परहेज करें। क्योंकि यह नकारात्मक ऊर्जाओं को जमा कर सकता है।

इसके अलावा, अपने बिस्तरको कभी भी शीशे के सामने न रखें ताकि आपके सोते हुए शरीर का प्रतिबिंब दर्पण में न दिखे। इसके अलावा, अपने दर्पण को वास्तु के अनुरूपबनाने के लिए उसे जमीन से थोड़ा ऊपर रखें। बाथरूम के लिए अच्छा दर्पण वास्तु बाथरूम के लिए भी मिरर वास्तु महत्वपूर्ण है। बाथरूम में शीशा इस तरह लगाएं कि वह नहाने की जगह को रोशन कर दे। अँधेरे कमरे में शीशालगाने से बचें क्योंकि यह घर के लिए बुरा माना जाता है। बाथरूम में शीशा लगाने के लिए उत्तर या उत्तर–पूर्व दिशा का प्रयोग करें।

वास्तु दर्पण लगाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? सीढ़ी के पास शीशा न लगाएं अपने बच्चों की स्टडी टेबल के पास शीशा लगाने से बचें क्योंकि इससे उनकी एकाग्रता प्रभावित होती है शीशे को हमेशा जमीनी स्तर से ऊपर रखें शीशा उत्तर या पूर्व की दीवारों में लगाने की कोशिश करें

Desk Editor
Next Story
Share it