Begin typing your search...

बिहार में 3 साल के मासूम की बदमाशों ने की हत्या, ये थी वजह

बिहार के नवादा जिले के काशीचक थाना इलाके में एक मासूम बच्चे के अपहरण और हत्या की सनसनीखेज वारदात से गांव में मातम छा गया है

बिहार में 3 साल के मासूम की बदमाशों ने की हत्या, ये थी वजह
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बिहार के नवादा जिले के काशीचक थाना इलाके में एक मासूम बच्चे के अपहरण और हत्या की सनसनीखेज वारदात से गांव में मातम छा गया है। यहां कुछ दरिंदों ने चंद नोटों के लिए तीन साल के मासूम बच्चे पर भी तरस नही आई| बदमाशों ने पहले पांच लाख की फिरौती के लिए पहले बच्चे को आगवा किया और फिर बेरहमी से गला दबाकर मार डाला।

यह घटना बीते गुरुवार को घटित हुई| गुरुवार की दोपहर भट्टा गांव में राकेश कुमार के बेटे आलोक को अगवा कर लिया गया। आलोक की उम्र मात्र तीन साल थी। उसे वापस करने के लिए लाखों की फिरौती मांगी गयी और जब रकम नहीं मिली तो दरिंदों ने मासूम की गला घोंटकर हत्या कर दी। मासूम की मौत से पूरे गांव में मातम का माहौल है। बता दें कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। मृतक बच्चे को उसकी नानी ने शेखपुरा से अपने पास बुलाया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुरुवार रात करीब नानी के घर से करीब 100 मीटर दूर गली से उस बच्चे की लाश मिली। आलोक के पिता राकेश शेखपुरा जिले के अरियरी थाने के तेलडीहा गांव के रहने वाले हैं। बच्चा वह तीन-चार दिन पूर्व ही मां के साथ भट्टा गांव स्थित ननिहाल आया था। पिता राकेश गुजरात के सूरत में फैक्ट्री में काम करते हैं जबकि उसके नाना जयचंद प्रसाद भट्टा गांव में रहते हैं और किसान हैं। गुरुवार की दोपहर आलोक अपने ननिहाल स्थित घर के बाहर से अचानक लापता हो गया। पकरीबरावां एसडीपीओ मुकेश साहा ने बताया कि बच्चे का अपहरण कर लेने की आशंका से संबंधित एक मामला गुरुवार शाम काशीचक थाने में दर्ज करायी गयी थी। अपहरणकर्ता की और से फिरौती मांगे जाने की बात भी बतायी गयी थी। इसी बीच रात में खोजबीन के क्रम में बच्चे की लाश मिली। डीएसपी ने कहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के कारणों का खुलासा होगा।

बता दें कि तीन वर्षीय अगवा बच्चे की खोजबीन चल ही रही थी कि आलोक के नाना जयचंद प्रसाद के मोबाइल पर एक फोन आया। फोन करने वाले ने कहा कि उनका नाती उसके पास है और पूरी तरह से सुरक्षित है। उसका अपहरण कर लिया गया है। अपहर्ता ने उसकी रिहाई के एवज में उनसे पांच लाख रुपये देने की मांग की। अपहर्ता द्वारा अपना कोई नाम अथवा पता नहीं बताया गया और फोन कट कर दिया गया। घटना के बाद परिजन दहशत में आ गये और शाम में आखिकार लोग काशीचक थाना की पुलिस के पास पहुंचे।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आलोक के नाना जयचंद प्रसाद द्वारा इस मामले में काशीचक थाने में फिरौती के लिए अपहरण की प्राथमिकी दर्ज करायी गयी। प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस एक्टिव हो गयी। सूचना पर पकरीबरावां पुलिस अनुमंडल के एसडीपीओ मुकेश साहा काशीचक थाना पहुंचे। एसएचओ राजकुमार समेत अन्य के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर मामले की जांच शुरू कर दी गयी। लेकिन तबतक अपहर्ताओं ने बच्चे को मार डाला। रात में बच्चे की गांव और उसके आसपास के इलाके में खोजबीन शुरू कर दी गयी। तभी घर से कुछ दूरी पर बच्चे की लाश बरामद की गयी।

पुलिस ने शव के पास के कुछ नमूने कलेक्ट किए हैं। उन नमूनों की जांच कराई जा रही है। एसडपीओ मुकेश साहा ने बताया है कि पुलिस हत्यारों को जल्द गिरप्तार करेगी। इधर, बच्चे की मां और नानी की आंखों से आंशुओं की लड़ी टूट नहीं रही है।

Sakshi
Next Story
Share it