Top
Begin typing your search...

बिहार में असदुद्दीन ओवैसी को लग सकता है बहुत बड़ा झटका, पांचों विधायक नीतीश कुमार से मिले

बिहार में बहुत जल्द ही नीतीश मंत्रिमंडल का विस्तार होने वाला है?

बिहार में असदुद्दीन ओवैसी को लग सकता है बहुत बड़ा झटका, पांचों विधायक नीतीश कुमार से मिले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कह चुके हैं कि राज्य मंत्रिमंडल का जल्द विस्तार होगा, लेकिन इससे पहले बड़ा खेल हो रहा है. बहुजन समाज पार्टी और लोक जनशक्ति पार्टी के बाद अब असदुद्दीन ओवैसी ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) की बारी है. राज्य में ओवैसी को एक बड़ा झटका लग सकता है. दरअसल, पार्टी के पांच विधायकों ने नीतीश कुमार से मुलाकात की है.

इससे पहले BSP के एकमात्र विधायक जदयू का दमन थाम चुके हैं. LJP के इकलौते विधायक नीतीश और जदयू नेताओं से मुलाकात के बाद कतार में खड़े हैं. इस बीच ओवैसी के पांचों विधायक नीतीश कुमार से मिलने पहुंच गए. नीतीश से मिलने ये सभी विधायक AIMIM के बिहार अध्यक्ष और विधायक अख्तरूल के नेतृत्व में पहुंचे थे.

बिहार के राजनीतिक हलकों में इस सप्ताह की शुरुआत में उस समय अटकलों का बाजार गर्म हो गया जब LJP विधायक राज कुमार सिंह नीतीश कुमार के विश्वासपात्र मंत्री अशोक चौधरी के आवास पर उनसे मुलाकात करने पहुंच गए. हालांकि, चौधरी ने राज कुमार सिंह की उपस्थिति को सामान्य तौर पर लेने की बात कही. सिंह ने JDU के विधायक नरेंद्र कुमार सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा था, जिन्हें उन्होंने 100 से कम मतों के अंतर से हराया था.

बिहार में बहुत जल्द ही नीतीश मंत्रिमंडल का विस्तार होने वाला है, जिसके ठीक पहले जिस तरह छोटे दलों के विधायक जदयू में शामिल हो रहे हैं उसे देखकर यह कयास लगाए जा रहे हैं कि JDU बिहार BSP और LJP को झटका देने के बाद अब ओबैसी को बहुत बड़ा झटका देने जा रही है.

बिहार में सत्ताधारी NDA में कुल चार घटक दल BJP, JDU, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा और मुकेश सहनी की विकासशील इंसान पार्टी शामिल है. बिहार राज्य मंत्रिमंडल में वर्तमान में BJP के दो उपमुख्यमंत्री सहित सात सदस्य हैं जबकि मुख्यमंत्री के अलावा जद(यू) के केवल चार मंत्री हैं. मांझी की पार्टी से उनके पुत्र और विकासशील इंसान पार्टी से सहनी को भी मंत्रिमंडल में स्थान दिया गया है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it