Begin typing your search...

Bihar Election Result 2020: सीमांचल में AIMIM ने जीतीं 5 सीटें, ओवैसी का बिहार में बढ़ा दखल

सीमांचल में कोचाधामन, किशनगंज, अमौर, बहादुरगंज, बैसी, ठाकुरगंज और जोकीहाट निर्वाचन क्षेत्रों में पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया है.

Bihar Election Result 2020: सीमांचल में AIMIM ने जीतीं 5 सीटें, ओवैसी का बिहार में बढ़ा दखल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बिहार चुनाव (Bihar Assembly Election Result) में असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम (AIMIM) ने तीसरी कोशिश में ही शानदार प्रदर्शन किया है. सीमांचल (Seemanchal) में कोचाधामन, किशनगंज, अमौर, बहादुरगंज, बैसी, ठाकुरगंज और जोकीहाट निर्वाचन क्षेत्रों में पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया है. ओवैसी की पार्टी पांच सीटें (Win Five Seats) जीतने में कामयाब रही. जिसके बाद हैदराबाद में उनके आवास पर जश्न का माहौल रहा.

बिहार की चुनावी रैलियों (Bihar Election Rally) में ओवैसी लगातार आरजेडी-कांग्रेस (RJD-Congress) महागठबंधन पर निशाना साधते रहे. उन्होंने लंबे समय तक इन इलाकों की उपेक्षा किए जाने के लिए आरजेडी-कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था. ओवैसी (Owaisi) ने अपनी चुनावी रैलियों में NRC-CAA जैसे मुद्दों को भी काफी जोर-शोर से उठाया था.हालांकि विरोधी लगातार AIMIM पर बीजेपी की 'बी' टीम होने और "वोट कटवा होने का आरोप लगाते रहे हैं.

कांग्रेस के एमएलसी प्रेम चंद्र मिश्रा ने स्वीकार किया कि एआईएमआईएम ने सीमांचल क्षेत्र में अच्छी पकड़ बनाई, जिसकी वजह से महागठबंधन को नुकसान उठाना पड़ा. उन्होंने कहा कि ओवैसी ने किसी खास वजह से महागठबंधन के गढ़ माने जाने वाले इलाके में सीटें जीतकर एनडीए की मदद की है.

वहीं राजद के प्रवक्ता चितरंजन गगन ने भी ओवासी पर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि ओवैसी की वजह से महागठबंधन को सीटों का नुकसान उठाना पड़ा. अगर इलाके के वोटों को देखा जाए तो पता चलता है कि शायद ही कोई ऐसी सीट है जहां NDA का नेतृत्व हो रहा हो, और AIMIM को मार्जिन से ज्यादा वोट मिले हों.

सीमांचल की 24 सीटों में से AIMIM और उसके सहयोगी – BSP और RLSP – 20 सीटों पर चुनाव लड़े, उनमें से, AIMIM 14 निर्वाचन क्षेत्रों में मैदान में थी. पूर्णिया के एक राजनीतिक कार्यकर्ता और सेवानिवृत्त शिक्षक अरशद निजाम ने कहा कि शुरुआती नतीजों से पता चला है कि पार्टी ने 2019 के उपचुनाव में अपना खाता खोला, और राज्य के मुस्लिम बहुल इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत की.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it