Begin typing your search...

दरभंगा आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल में अगले शैक्षणिक सत्र से पढ़ाई शुरू करने के प्रयास प्रारंभ

दरभंगा आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल में अगले शैक्षणिक सत्र से पढ़ाई शुरू करने के प्रयास प्रारंभ
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पटना।बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा है कि दरभंगा आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल में अगले शैक्षणिक सत्र से पढ़ाई शुरू करने के प्रयास प्रारंभ किये जा रहे हैं यहाँ पढ़ाई और चिकित्सा सेवा शुरू करने के लिए शिक्षकों और चिकित्सकों की कमी को दूर किया जा रहा है। दरभंगा के साथ बेगूसराय आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल के दो नए भवन बनाने की प्रक्रिया भी प्रारंभ की जा रही है।

मंगल पांडेय ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग देसी चिकित्सा को विकसित करने में लगा है। विभाग वर्षों से बंद सरकारी आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल में पढ़ाई प्रारंभ कराने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि दरभंगा स्थित आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल में अगले शैक्षणिक सत्र से पढ़ाई शुरू करने के प्रयास प्रारंभ कर दिए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल, दरभंगा में वर्षों से पढ़ाई बंद है। पूर्व में 30 सीटों पर बीएएमएस पाठ्यक्रम में दाखिला होता था लेकिन उसके बाद सीसीआईएम (सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन) ने इस कॉलेज की मान्यता रद्द कर दी। दरभंगा आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल में पढ़ाई और चिकित्सा सेवा शुरू करने के लिए शिक्षकों और चिकित्सकों की कमी दूर की जा रही है। मंगल पांडेय ने कहा कि बारह शिक्षकों और चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति की गई है। बंद विभागों और सेवाओं को शुरू किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि दरभंगा के साथ साथ बेगूसराय आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल के 2 नए भवन बनाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

मंत्री ने कहा कि फिलहाल पटना और बेगूसराय स्थित आयुर्वेद कॉलेज सह अस्पताल में पढ़ाई हो रही है। दरभंगा के आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल को मान्यता मिल जाने के बाद प्रदेश में आयुर्वेद पढ़ाई के 3 सरकारी संस्थान हो जाएंगे। इसके बाद भागलपुर स्थित आयुर्वेद कॉलेज और अस्पताल की मान्यता दिलाने के प्रयास किए जाएंगे। इसके लिए आवश्यक मानक को पूरा किए जा रहे हैं। साथ ही आयुर्वेदिक, होमियोपैथी और यूनानी चिकित्सा कॉलेजों की शैक्षिक और आधारभूत संरचना की कमियां दूर की जाएगी।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it