Top
Begin typing your search...

एनडीए के उम्मीदवार रामविलास पासवान ने राज्यसभा के लिए किया नामांकन

राज्यसभा के जो रिक्त सीट है वो बिहार से एक गुजरात से दो और ओडिशा से तीन सीट शामिल हैं।

एनडीए के उम्मीदवार रामविलास पासवान ने राज्यसभा के लिए किया नामांकन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद सहित छह राज्यसभा सदस्यों के हाल ही में लोकसभा चुनाव जीतने के कारण उच्च सदन की रिक्त हुई, छह सीटों के लिये उपचुनाव पांच जुलाई को होगा। उसके लिए आज केन्द्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री रामविलास पासवान ने यहां राज्यसभा की एक सीट के लिए पांच जुलाई को होने वाले उप चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया। यह सीट केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के पटना साहिब से लोकसभा क्षेत्र से चुने जाने के कारण खाली हुई है। राज्यसभा के जो रिक्त सीट है वो बिहार से एक, गुजरात से दो और ओडिशा से तीन सीट शामिल हैं।

विधानसभा के सचिव बटेश्वर नाथ पाण्डेय के समक्ष नामांकन पत्र दाखिल करते समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय और पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव सहित अन्य कई मंत्री व विधायक मौजूद थे। नामांकन पत्र दाखिल करने पहले दिन शुक्रवार को सिर्फ रामविलास पासवान का नामांकन पत्र दाखिल हुआ है। इन सीटों पर उपचुनाव के लिये 18 जून को अधिसूचना जारी किये जाने के साथ ही निर्वाचन प्रक्रिया की औपचारिक शुरुआत कर दी थी। उम्मीदवारी को नामांकन की अंतिम तिथि 25 जून होगी और 26 जून को नामांकन पत्रों की जांच की जायेगी। नाम वापसी की अंतिम तिथि 28 जून तय की गयी है और पांच जुलाई को सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा। मतदान के बाद शाम पांच बजे मतगणना होगी।

हालांकि लोक जनता शक्ति पार्टी के प्रमुख रामविलास पासवान ने 17 वीं लोकसभा में चुनाव नहीं लड़ा था। चुनाव से पहले ही पासवान ने साफ कर दिया था कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगे। माना जा रहा था कि बीजेपी उन्हें राज्यसभा भेजेगी। मोदी सरकार में जब पासवान को मंत्री बनाया गया था तो वो किसी भी सदन के सदस्य नही थे। मंत्री बनने पर उनको छह माह के अंदर संसद के किसी एक सदन का सदस्य बनना कानूनन अनिवार्य है। 17वीं लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा-जदयू को 17-17 और लोजपा को 6 लोकसभा सीटों के बंटवारे के साथ रामविलास पासवान को राज्यसभा में भेजने का निर्णय हुआ था। पासवान पहले भी राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के सहयोग से राज्यसभा के सदस्य बने थे।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it