Top
Begin typing your search...

बिहार में प्रतिभा की कमी नहीं,कला को पहचान कर समुचित मंच प्रदान करने की आवश्यकता: ताराकिशोर

बिहार में प्रतिभा की कमी नहीं,कला को पहचान कर समुचित मंच प्रदान करने की आवश्यकता: ताराकिशोर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना।बिहार म्यूजियम में आयोजित दो दिवसीय पटना बाल फिल्म महोत्सव का उद्घाटन करते हुए उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि बिहार के हर जिले में कला प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। स्थानीय स्तर पर कई बेहतरीन कलाकार मौजूद हैं। जरूरत है, उनकी कला को पहचान कर समुचित मंच प्रदान करने की। उन्होंने कहा कि कला संस्कृति एवं युवा विभाग और बिहार राज्य फिल्म विकास निगम ने पटना बाल फिल्म महोत्सव का आयोजन कर बेहतरीन पहल की है।बाल फिल्म महोत्सव के खूबसूरत आयोजन से बच्चों में रचनात्मकता और वैचारिकता का विकास हो सकेगा।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार सरकार राज्य में फिल्मों के विकास के लिए संवेदनशीलता के साथ काम कर रही है।फिल्म निर्माण, सिनेमा आर्टिस्ट और बाल कलाकारों को सुंदर और सुव्यवस्थित मंच प्रदान करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध प्रयास कर रही है।फिल्म विकास एवं फिल्म निर्माण के लिए सरकार की ओर से हर संभव मदद की जाएगी।


कार्यक्रम के दौरान कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री लोक रंजन झा ने फिल्म निर्माताओं और निर्देशकों का आह्वान करते हुए कहा कि बिहार के हर जिले में शूटिंग के लिए ऐसे कई महत्वपूर्ण लोकेशन हैं, जिसका उपयोग फिल्म शूटिंग के लिए किया जा सकता है।


गौरतलब है कि इस दो दिवसीय बाल फिल्म महोत्सव के दौरान आई. एम. कलाम, हरजीता, बुधिया, रेलवे चिल्ड्रेन, कस्तूरी सहित कई समसामयिक मुद्दों पर आधारित फिल्में प्रदर्शित की जा रही हैं। साथ ही बिहार राज्य फिल्म विकास निगम द्वारा बाल फिल्म महोत्सव के दौरान समानांतर बिहार सिनेमा का भी खंड प्रदर्शित किया जा रहा है, जिसके तहत बिहार की कला विरासत और बिहारी कलाकारों द्वारा निर्मित फिल्मों की प्रस्तुति भी हो रही है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it