Top
Begin typing your search...

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेजे गए पप्पू यादव, रात 11 बजे कोर्ट खोलकर हुई पेशी

मधेपुरा पुलिस ने पप्पू यादव को 32 वर्ष पुराने अपहरण के केस में पप्पू यादव को पटना से अरेस्ट किया था।

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेजे गए पप्पू यादव, रात 11 बजे कोर्ट खोलकर हुई पेशी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार : पूर्व सांसद व जाप प्रमुख पप्पू यादव को मधेपुरा कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। प्रभारी न्यायिक दंडाधिकारी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई की। उन्होंने पूर्व सांसद को रिमांड टू जेल का आदेश देते हुए न्यायिक हिरासत में बीरपुर (सुपौल) जेल भेजने को कहा। अब प्रशासन उन्हें बीरपुर जेल भेजने की तैयारी कर रहा है।

मधेपुरा पुलिस ने मंगलवार को ही ही पप्पू यादव को 32 वर्ष पुराने अपहरण के केस में पप्पू यादव को पटना से अरेस्ट किया था। पुलिस उन्हें लेकर रात 11 बजे के करीब मधेपुरा कोर्ट पहुंची थी। इस दौरान पटना से मधेपुरा के पूरे रास्ते पप्पू यादव के समर्थक उनके पुलिस के काफिले के साथ जुड़ते गए। मधेपुरा पहुंचते -पहुंचते यह काफिला 30 से अधिक गाड़ियों का हो गया था। मधेपुरा कोर्ट के बाहर भी पप्पू यादव के समर्थकों की भीड़ जमा हो गई थी।

पटना आई मधेपुरा पुलिस ने पप्पू यादव को आज गांधी मैदान थाना से अरेस्ट किया था। पप्पू को आज सुबह ही पटना पुलिस कोरोना गाइडलाइन तोड़ने के आरोप में अरेस्ट कर गांधी मैदान थाना लाई थी। शाम तक मधेपुरा पुलिस की टीम वहां पहुंची और कागजी कार्रवाई पूरी की। इसके बाद शाम 6 बजे के करीब मधेपुरा पुलिस पप्पू यादव को लेकर निकल गई।

हाजीपुर में पुलिस की गाड़ी पर चढ़े पप्पू समर्थक

पप्पू यादव को लेकर पटना से निकली मधेपुरा पुलिस को वैशाली में थोड़े विरोध का भी सामना करना पड़ा। हाजीपुर में NH पर पप्पू के समर्थक पहले से ही जमे हुए थे। पुलिस का काफिला आते देख सभी बीच सड़क पर खड़े हो गए। समर्थकों ने सड़क पर बैरिकेडिंग भी कर दी थी। कुछ उस गाड़ी पर चढ़ गए जिसमें पप्पू यादव बैठे गए। हालांकि काफिले के साथ चल रहे सुरक्षाकर्मियों ने पप्पू के समर्थकों को तुरंत ही हटा दिया। इस दौरान एक समर्थक ने मीडिया से कहा कि जिस सरकार को हमने अपने सेवा के लिए चुना है, वही सरकार ऐसे आदमी को गिरफ्तार करा रही है, जो वक्त पर हमारी मदद कर रहा है।

'मैं नीतीश की मदद कर रहा था, BJP ने फंसाया'

मधेपुरा पुलिस द्वारा अरेस्ट किए जाने से पहले पप्पू यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा- हम जेल जा रहे हैं तो चाहते हैं कि अब तेजस्वी यादव सड़क पर उतरें। हमारी पार्टी के नेता जमीन बेचकर सबको खाना खिलाएंगे। हमने डेढ़ महीने नीतीशजी की मदद की है। लोगों को अस्पताल पहुंचाया, बेड दिलवाया, दवा दिलवाई।मैं पटना में गरीब लोगों को खाना खिला रहा था, जिससे मुझे रोक दिया गया है। इसलिए अब मैं भी भोजन त्याग रहा हूं।

हम नीतीशजी से आग्रह करते हैं, बिहार को प्राइवेट अस्पतालों से बचा लीजिए। मुझे पीरबहोर थाने से बेल मिल गया था। इसके बाद साजिशन मधेपुरा के मामले में अरेस्ट कराया जा रहा है।इस कोरोना काल में आदेश है कि किसी को इस तरह अरेस्ट नहीं करना है। फिर भी BJP के प्रेशर में आकर नीतीशजी मेरी बलि ले रहे हैं।

एंबुलेंस विवाद में भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी के खिलाफ बोलना पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव के लिए भारी पड़ गया है। दो दिनों पहले ही छपरा में उनके खिलाफ FIR दर्ज की गई थी। आज सुबह पटना पुलिस उनके घर पहुंच गई। उन्हें पकड़ कर सीधे गांधी मैदान थाना ले आई। दूसरी तरफ लॉकडाउन उल्लंघन करने और PMCH के कोविड वार्ड में घूमने के मामले में उनके उपर मजिस्ट्रेट के बयान पर पटना के ही पीरबहोर थाना में FIR दर्ज कर दी गई है।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it