Begin typing your search...

अनाथ एवं अभिवंचित बच्चों के लिए महत्वपूर्ण है परवरिश योजना

अनाथ एवं अभिवंचित बच्चों के लिए महत्वपूर्ण है परवरिश योजना
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मुंगेर।राज्य सरकार द्वारा बच्चों की देखरेख एवं संरक्षण के और संस्थानिक प्रयासों के अंतर्गत परवरिश योजना शुरू की गई है। जिसके द्वारा अनाथ एवं अभिवंचित बच्चों का पालन पोषण सामुदायिक स्तर पर सुनिश्चित किया जा सकेगा।

योजना का लक्ष्य समूह/पात्रता:- अनाथ एवं बेसहारा बच्चे जो अपने निकटतम संबंधी अथवा अपने रिश्तेदार के साथ रहते है। एचआईवी एड्स से पीड़ित माता/पिता की संतान।

योग्यता की पात्रताः- बच्चे की उम्र 18 वर्ष के कम होनी चाहिए। पालन पोषणकर्ता अथवा माता-पिता गरीबी रेखा(बीपीएल) के अधीन सूचीबद्ध हो अथवा उनकी वार्षिक आय 60 हजार से कम हो। एचआईवी एड्स के मामले में गरीबी रेखा के अधीन अथवा वार्षिक आय 60 हजार रुपये की अनिवार्यता नहीं होगी।

योजना के अन्तर्गत अनुदान की राशिः- 0 से 18 वर्ष उम्र समूह के बच्चों के लिए 1000/- रुपये प्रतिमाह मिलेगा। आवेदन की प्रक्रियाः- आवेदन पत्र आॅगनबाड़ी केन्द्र की सेविका के पास निःशुल्क प्राप्त किया जा सकता है। आवेदन पत्र विभाग के वेबसाईट http//:socialwalfare.bih.nic.in पर उपलब्ध है। आवेदक आवेदन पत्र भरकर एवं आवश्यक कागजात संलग्न कर संबंधित क्षेत्र की आॅगनबाड़ी सेविका के पास जमा करेगे। एचआईवी एड्स एवं कुष्ठ रोग के मामले में आवेदन पत्र भरकर सीडीपीओ के कार्यालय में जमा करेंगे। अधिक जानकारी के लिए दूरभाष संख्या-06344-222009/8521204087 पर संपर्क कर सकते है। परवरिश योजना अंतर्गत जिले में 183 बच्चों को लाभ दिया जा रहा है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it