Top
Begin typing your search...

16 करोड़ की वैक्सीन से बचेगी मासूम की जान, तेजप्रताप ने लगाई मदद की गुहार

मां नेहा सिंह ने बताया कि अयांश जब 2 माह का था, तब इस बीमारी के बारे में पता चला। अभी बच्चे के गर्दन का एक हिस्सा.........

16 करोड़ की वैक्सीन से बचेगी मासूम की जान, तेजप्रताप ने लगाई मदद की गुहार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना। तेजप्रताप ने ट्वीट कर कहा है कि आप तमाम देशवासियों से मेरा हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि बिहार का बेटा अयांश को जितना संभव हो सके उतना सहायता राशि प्रदान करें। दस महीने के अयांश को लेकर उसके परिवारवाले इसकी जिदंगी बचाने के लिए जद्दोजहत में लगे है लेकिन अब अयाशं का जान बचाने के लिए आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव आगे आए हैं। तेजप्रताप ने अयांश के घर जाकर उसके परिजनों से मुलाकात की।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि तस्वीरों के माध्यम से अयांश का बैंक डिटेल्स आप सबों के साथ साझा कर रहा हूं। आप सब लोग अयांश को मदद करें। आरजेडी नेता ने कहा कि अयांश को मदद के लिए वैक्सीन की जरूरत है। सरकार लेट क्यों कर रही, आयांश को 16 करोड़ की वैक्सीन दिलाए।

बता दें कि दो महीने के अंदर बच्चे को ये इंजेक्शन लगना जरूरी है, लिहाजा अयांश के पिता आलोक कुमार सिंह लोगों से मदद की अपील कर रहे हैं। जहां आप क्राउड फंडिंग के जरिए इस बच्चे को जिंदगी दे सकते हैं, इसके लिए अयांश के पिता अपना एकाउंट नंबर भी दे रहे हैं। साथ ही गूगल और पेटीएम नंबर भी दे रहे हैं ताकि फंड इकट्ठा किया जा सके।

बैंक का नाम- सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank Of India)

खाता धारक का नाम- अयांश सिंह (Aayansh Singh)

खाता संख्या- 5121176175

आईएफएससी कोड- CBIN0282384

Google Pay/Paytm No. 9431089721

मेडिकल एक्सपर्ट की मानें तो इस बीमारी के लक्षण के साथ जन्म लेने वाले बच्चे अधिक से अधिक 2 साल तक जीवित रह पाते हैं। फिर भी इसका इलाज ढंग से हो जाए तो बच्चे को एक नया जीवन मिल सकता है। फिलहाल अयांश का इलाज बेंगलुरू के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज की देखरेख में चल रहा है। अभी वह रुकनपुरा में है। यह बच्चा 10 माह का तो हो गया है। बावजूद अभी कुछ नहीं कर पाता है।

मां नेहा सिंह ने बताया कि अयांश जब 2 माह का था, तब इस बीमारी के बारे में पता चला। अभी बच्चे के गर्दन का एक हिस्सा काम करना बंद कर चुका है। नेहा सिंह ने बताया कि अयांश के इलाज के लिए परिवार के सभी लोग पैसे के लिए क्राउडफंडिंग का सहारा ले रहे हैं और लोगों से बच्चे के इलाज के लिए यथाशक्ति जो कुछ भी बन पाता है, सहायता राशि देने की अपील की जा रही है। नेहा सिंह ने बताया कि वह साधारण परिवार से आती हैं। ऐसे में वह लोगों से अपील कर रही हैं कि बच्चे के इलाज के लिए आगे आकर लोग मदद करें।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it