Top
Begin typing your search...

तेजस्वी यादव का तंज- 'उनके मंत्री ही मुख्यमंत्री पर सवाल उठाते हैं'

नीतीश कुमार की सरकार को सत्ता में फिर से आए एक महीना हो गया है, ऐसे में तेजस्वी यादव ने उनके ही मंत्रियों के जरिए उनपर हमला किया. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के मंत्री मुख्यमंत्री और पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हैं.

तेजस्वी यादव का तंज- उनके मंत्री ही मुख्यमंत्री पर सवाल उठाते हैं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: बिहार में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की नई सरकार को फिर सत्ता में आए एक महीना हो गया है. इस मौके पर राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जोरदार हमला बोला. उन्होंने कहा कि बिहार सरकार को सत्ता में एक महीना हो गया है और इतने वक्त में ही सरकार के ही मंत्री और विधायक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर ही सवाल उठाते हैं.

तेजस्वी ने कहा, 'डकैती, झूठ, लूट, छल, प्रपंच और फ़रेब से बनी बिहार सरकार को आज एक महीना हो गया है. सरकार में दो उपमुख्यमंत्री और सबसे अधिक मंत्री, विधायक वाली BJP के MP, MLA और मंत्री ही प्रतिदिन अपनी लुटेरी सरकार की कार्य शैली, मुख्यमंत्री और पार्टी पर सवाल उठाते हैं.'

उन्होंने नीतीश कुमार को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि 'हमारी पढ़ाई, दवाई, कमाई, सिंचाई, सुनवाई, कार्रवाई और रोज़ी-रोटी और स्थाई नौकरी जैसे जनसरोकारी मुद्दों आधारित सकारात्मक राजनीति को कुर्सीवादी लोग कभी नहीं हरा पाएंगे. चोरी की इस नई नवेली सरकार को एक महीने का समय और दे रहे हैं, ताकि वो प्रदेश में फैली रिकॉर्डतोड़ बेरोजगारी को ख़त्म करने, नौजवानों, छात्रों, संविदाकर्मियों और किसानों की मांगों को पूर्ण करने, प्रशासन के कण-कण में व्याप्त भ्रष्टाचार और प्रदेश के कोने-कोने में स्थापित बेतहाशा अपराध को क़ाबू करने की दिशा में ठोस कदम उठा सके.'

तेजस्वी ने नीतीश पर निजी हमला करते हुए कि उन्हें कम से जनप्रतिनिधियों की शंकाएं दूर करने के लिए ही जवाब देना चाहिए. उन्होंने कहा, 'मुख्यमंत्री जी, विपक्ष के तर्कपूर्ण और तथ्यपूर्ण वाजिब सवालों का कभी भी उत्तर नहीं देते क्योंकि उनके पास जवाब ही नहीं होता. अगर विपक्ष का जवाब देने में किसी प्रकार की बची-खुची प्रतिष्ठा का क्षरण होता है तो आप अपनी सरकार के सबसे बड़े सहयोगी, उनके मंत्री और जनप्रतिनिधियों की शंकाओं का ही लोकहित में जवाब दे दीजिए.'

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it