Begin typing your search...

भूमिहीनों को भूमि उपलब्ध कराना सरकार और जिला प्रशासन की प्राथमिकता:डीएम

भूमिहीनों को भूमि उपलब्ध कराना सरकार और जिला प्रशासन की प्राथमिकता:डीएम
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मुंगेर। भूमिहीनों को भूमि उपलब्ध कराना सरकार और जिला प्रशासन की प्राथमिकता की सूची में है। आज धरहरा प्रखंड अंतर्गत दशरथी माताडीह, बगलवा के र्कुथौल मांझी टोला अजीमगंज पंचायत के गौरेया के महादलित टोलो के 88 भूमिहीन परिवार को अभियान बसेरा अन्तर्गत वासगीत पर्चा दिया गया। 03-05 डिसमील रकवा भूमि न सिर्फ दिया गया बल्कि आवास योजना अन्तर्गत उनके आवास निर्माण की भी स्वीकृति दी गयी। जिला पदाधिकारी श्री नवीन कुमार ने अपने उद्बोधन में कहा कि किसी परिवार की मूलभूत आवश्यकता है। जमीन रहने पर उन्हें आधार, राशन तथा अन्य कागजात निर्माण में आसानी होती है।

उन्होंने कहा कि जमीन के साथ-साथ आवास की योजना में 1.30 लाख मनरेगा के तहत 24 हजार तथा शौचालय के लिए 12 हजार कुल मिलाकर 1.66 लाख की अतिरिक्त सुविधा मिल जायेगी। उन्होंने छूटे हुए परिवार की पुनः सर्वेक्षण कर उन्हें पर्चा देने हेतु कार्रवाई करने का निदेश दिया। उन्होंने उपस्थित सभी लोगों से शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक एवं आर्थिक उन्नति के लिए चलाये जा रहे सरकारी योजनाओं पेंशन, शराबबंदी आदि के संबंध में विस्तृत जानकारी दी एवं उन्हें जागरूक किया। उन्होंने सभी से कहा कि अपने बच्चों को विद्यालय अवश्य भेजे। क्योंकि शिक्षित परिवार ही किसी भी क्षेत्र में सफल हो सकते है। स्वास्थ्य संबंधित जागरूकता संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि अस्पतालों एवं आॅगनबाड़ी केन्द्र के माध्यम से दिये जा रहे आयरन, कीड़े मारने की गोली अवश्य ले।

सीडीपीओ को निदेश दिया गया कि 15 दिनों के अंदर सभी दलित टोलो के घर में टेबलेट वितरण कराना सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा कि अस्पताल में मुफ्त जांच की सुविधा दी जाती है। जिसका भरपूर उपयोग करनी चाहिए। उन टोलों में स्वास्थ्य, कल्याण एवं आईसीडीएस रोस्टर बनाकर समेकित रूप से कैंप का आयोजन करेगे तथा आन स्पॉट आवेदन एवं समस्याओं का निराकरण करेगे। जिनका आवासीय आधार, बैंक खाता नहीं बना हुआ है 15 दिन के अंदर बनाना सुनिश्चित करेगे। सामाजिक सुरक्षा पेंशन के बिन्दु पर भी सर्वेक्षण कर सभी छुटे हुए व्यक्ति को इसका लाभ दिलाने का निदेश दिया गया। आर्थिक रूप से महिलाओं को सशक्त करने के लिए जीविका के माध्यम से स्वरोजगार के संबंध में भी बताया गया। शराबबंदी पर लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि इसके कई दुष्प्रभाव है।इससे शारीरिक आर्थिक सामाजिक और मानसिक विकार उत्पन्न होते है। जिला पदाधिकारी ने कहा कि शराब सेवन और धंधे में लिप्त व्यक्तियों पर कड़ी नजर रखे तथा प्रशासन को सूचित करे।

इसी क्रम उन्होंने राजस्व कर्मचारी, आईसीडीएस के महिला पर्यवेक्षिका, डीपीएम जीविका, डीपीएम स्वास्थ्य आदि कर्मियों पर कमतर प्रगति के लिए नाराजगी व्यक्ति की गयी तथा स्पष्टीकरण की पृच्छा की गयी। इस अवसर पर उन्होंने लोक सेवा केन्द्र का निरीक्षण कर आवश्यक निदेश दिये। वे प्रखंड डाटा केन्द्र सह अभिलेखागार का भी फीता काटकर उद्घाटन भी किया। मौके पर अपर समाहर्ता श्री विद्यानंद सिंह, उप विकास आयुक्त श्री संजय कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सदर श्रीमती खुशबू गुप्ता, सिविल सर्जन श्री हरेन्द्र कुमार आलोक, डीसीएलआर सदर, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी श्री दिनेश कुमार एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी धरहरा आदि उपस्थित थे।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it