Begin typing your search...

बिहार में अपराधियों के हौसले बुलुंद, RJD नेता और तेजस्‍वी यादव के करीबी को बाइक सवार अपराधियों ने गोलियों से भूना

मृतक के परिजन ने कहा कि मोटरसाइकिल पर सवार तीन लोगों ने यादव पर नजदीक से गोली चलाई और फरार हो गए।

बिहार में अपराधियों के हौसले बुलुंद, RJD नेता और तेजस्‍वी यादव के करीबी को बाइक सवार अपराधियों ने गोलियों से भूना
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बिहार के गोपालगंज में गुरुवार देर रात एक मोटरसाइकिल सवार तीन अज्ञात हमलावरों ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता डॉक्‍टर राम इकबाल यादव की गोली मारकर हत्या कर दी। इस घटना के बाद विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने राज्य में मौजूदा कानून व्यवस्था की स्थिति पर नीतीश कुमार सरकार से सवाल उठाया है। पुलिस ने कहा कि अज्ञात अपराधियों ने शादी समारोह में शामिल होकर लौट रहे आरजेडी नेता और तेजस्‍वी यादव के करीबी डॉक्‍टर राम इकबाल यादव पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गई। इस घटना में राजद नेता की मौके पर ही मौत हो गई थी।

स्थानीय लोग नेता को हथुआ सदर अस्पताल ले गए जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। घटना के तुरंत बाद मृतक नेता के समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन किया और हमलावरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग को लेकर गोपालगंज-पटना मार्ग पर यातायात अवरुद्ध कर दिया। उन्होंने करीब चार घंटे तक पुलिस को अस्पताल में घुसने नहीं दिया। पुलिस द्वारा त्वरित कार्रवाई के बाद ग्रामीणों को समझाने में सफलता मिलने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया।

मृतक के परिजन अभिनव राजा ने कहा कि मोटरसाइकिल पर सवार तीन लोगों ने यादव पर नजदीक से गोली चलाई और फरार हो गए। यादव के शरीर में तीन गोलियां लगीं। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और खाली कारतूस बरामद किया। प्रारंभिक जांच में घटना के पीछे की वजह राजनीतिक रंजिश या किसी से निजी दुश्मनी बताई जा रही है।

गोपालगंज के पुलिस अधीक्षक आनंद कुमार ने कहा कि हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस कई जगहों पर छापेमारी कर रही है। फिलहाल, हमलावरों की पहचान और गाड़ी नंबर का पता नहीं चला है और ना ही उनके मकसद का भी अभी पता नहीं चल पाया है। राजद प्रवक्ता भाई बीरेंद्र ने कहा, 'हम अपनी पार्टी के नेता की हत्या से गहरा स्तब्ध हैं। सरकारी तंत्र गूंगा और बहरा हो गया है।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it