Top
Begin typing your search...

बिहार की सियासी पार्टियों में आयेगा भूचाल जब आरजेडी के इस नेता को मिलेगी पार्टी की कमान

अध्यक्ष पद के लिए एकमात्र नामांकन लालू यादव का ही होना है ऐसे में उनका अध्यक्ष बनना भी तय हो जाएगा।

बिहार की सियासी पार्टियों में आयेगा भूचाल जब आरजेडी के इस नेता को मिलेगी पार्टी की कमान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना. राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव एक बार फिर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्वाचित किये जाएंगे. जानकारी के मुताबिक वो लगातार 11वीं बार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेंगे. आरजेडी के संगठन चुनाव में मंगलवार को दोपहर साढ़े बारह बजे पार्टी कार्यालय में चार सेट में लालू यादव का नामांकन पत्र दाखिल किया जाएगा. उनका नामांकन पत्र विधायक भोला यादव ने प्राप्त किया है. चूंकि अध्यक्ष पद के लिए एकमात्र नामांकन लालू यादव का ही होना है ऐसे में उनका अध्यक्ष बनना भी तय हो जाएगा।

बतादें कि लालू के साथ ही उनके बेटे तेजस्वी यादव के नाम को लेकर भी कई तरह की चर्चाएं हवा में तैर रहीं थी लेकिन लालू के एकमात्र नामांकन के साथ ही इन अटकलबाजियों पर भी विराम लग जाएगा. पार्टी की स्थापना के बाद यह पहला मौका है जब लालू यादव की गैरमौजूदगी में उनका नामांकन पत्र उनके प्रतिनिधि दाखिल करेंगे. पटना के बीरचंद पटेल पथ स्थित आरजेडी कार्यालय में होने वाले नामांकन कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव सहित पार्टी के सभी वरीय नेता मौजूद रहेंगे।

जानकारी के मुताबिक राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में लगभग 600 राष्ट्रीय परिषद के सदस्य हिस्सा लेते हैं. ये सभी सदस्य 10 दिसंबर को आरजेडी प्रमुख के रूप में लालू यादव के नाम पर मुहर लगाएंगे. लालू फिलहाल चारा घोटाला से जुड़े मामले में सजायाफ्ता हैं और रांची के रिम्स में पिछले कुछ महीनों से इलाजरत हैं।



लालू की गैर मौजूदगी में उनके छोटे बेटे और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने पार्टी की कमान संभाल रखी है. ऐसे में इस बात के भी कयास लगाए जा रहे थे कि शायद तेजस्वी को ही पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जाएगा. मगर लालू यादव के एकमात्र नामांकन के साथ मंगलवार को यह तय हो जाएगा कि एक बार फिर आरजेडी की कमान पार्टी के संस्थापक लालू यादव के हाथों में रहेगी।

बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री और पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव ने 5 जुलाई 1997 को जनता दल से अलग होकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद या आरजेडी) के नाम से नए दल का गठन किया। पार्टी गठन के समय लालू ने कहा था कि यह दल समाजवाद का नारा बुलंद करेगा।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it