Top
Begin typing your search...

बिहार में महागठबंधन का फॉर्मूला हो गया तय? जानें- किसको कितनी सीटें मिली

तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन के घटक दलों में सीटों के बंटवारे का फार्मूला फाइनल हो गया है और राहुल गांधी से बातचीत के बाद इसका ऐलान होगा

बिहार में महागठबंधन का फॉर्मूला हो गया तय? जानें- किसको कितनी सीटें मिली
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार में महागठबंधन के अंदर लोकसभा सीटों को लेकर फंसे पेंच को सुलझाने के लिए कांग्रेस, आरजेडी और दूसरे महागठबंधन के नेताओं ने बुधवार को कांग्रेस के संगठन महासचिव केके वेणुगोपाल से मुलाकात की। इस पर तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन के घटक दलों में सीटों के बंटवारे का फार्मूला फाइनल हो गया है और राहुल गांधी से बातचीत के बाद इसका ऐलान होगा।

तेजस्वी यादव ने कहा सीट शेयरिंग पर बात हुई है। विनेबिलिटी पर बात हुई है, ऐसी सरकार जो सबके लिए काम करे। कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा हर सीट पर हर उमीदवार पर बात हुई है। हमने सीट शेयरिंग तय कर लिए है. सही समय पर ऐलान करेंगे।

सूत्रों के अनुसार जिस फार्मूले पर सहमति बनती दिख रही है, उसके अनुसार राजद 20, कांग्रेस 11, रालोसपा 3, हम व वामदल 2-2, लोजद और वीआईपी 1-1 सीट पर अपने उम्मीदवार उतार सकते हैं। बैठक कांग्रेस संगठन प्रभारी सह महासचिव वेणु गोपाल के आवास पर हुई। इसमें कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मदन मोहन झा, राजद के तेजस्वी प्रसाद यादव, रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा, हम के जीतनराम मांझी, लोजद के अर्जुन राय, वीआईपी के मुकेश सहनी शामिल हुए।

शरद यादव के प्रतिनिधि अर्जुन राय ने कहा कि शरद यादव मधेपुरा से चुनाव लड़ेंगे, यह फाइनल हो गया है। इसी हफ्ते अड़चनों को दूर कर लिया जाएगा और महागठबंधन मैं सीटों के बंटवारे का फाइनल ऐलान पटना मैं होगा।

इससे पहले बिहार विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस मजबूत हुई है। अगर सीट बंटवारा नहीं हुआ तो कोई समस्या नहीं होगी। हम किसी के भी मोहताज नहीं हैं। सदानंद ने पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश का उदाहरण दिया, जहां कांग्रेस कट्टर प्रतिद्वंद्वियों बीएसपी और समाजवादी पार्टी द्वारा तालमेल नहीं किए जाने पर लोकसभा चुनाव में अकेले जाने के लिए कमर कस रही है।


Special Coverage News
Next Story
Share it