Begin typing your search...

पप्पू यादव का CM योगी पर हमला, कहा- ब्राह्मणों के पीछे पड़ी है योगी सरकार, यूपी में 600 ब्राह्मणों की हत्या

विकास दुबे के एनकाउंटर पर पप्पू यादव ने कई सवाल खड़े किए

पप्पू यादव का CM योगी पर हमला, कहा- ब्राह्मणों के पीछे पड़ी है योगी सरकार, यूपी में 600 ब्राह्मणों की हत्या
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

बिहार में जाप नेता पप्पू यादव उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर जातिवाद का आरोप लगाते हुए विकास दुबे के एनकाउंटर पर कई सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने सफेदपोश को बचाने के लिए यह हत्या करवाई की गई है.पूरे उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण समाज को निशाना बनाकर 400 से ज्यादा एनकाउंटर किए गए हैं. उन्होंने अपनी जाति के अपराधियों को छोड़ दिया है। क्या उत्तर प्रदेश में उनके जाति का कोई अपराधी नहीं है? उक्त बातें पप्पू यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कही. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सारे ब्राह्मणों की हत्या कराई जा रही है. योगी सरकार ब्राह्मणों के पीछे पड़ी है.

विकास दुबे के एनकाउंटर पर पप्पू यादव ने कई सवाल खड़े किए । उन्होंने कहा कि, अगर विकास दुबे भागने की कोशिश कर रहा था तो सीने में गोलियां कैसे लगी? वह टाटा सफारी गाड़ी में सवार था लेकिन जो गाड़ी पलटी वह महिंद्रा की थी। गाड़ी अगर फिसल कर पलटती तो सड़क पर टायर के निशान होते लेकिन घटना वाली जगह ऐसे कोई निशान नहीं पाए गए हैं। साथ ही मीडिया को भी टोल प्लाजा पर ही रोक दिया गया. इन सब से यही साबित होता है कि विकास दुबे का एनकाउंटर एक सोची-समझी साजिश के तहत किया गया। विकास दुबे भाजपा के कई मंत्रियों की पोल खोलने वाला था। इससे भाजपा सरकार गिर भी सकती थी। इसलिए पोल खुलने से पहले ही उसे चुप करा दिया गया। उसके घर को भी गैर कानूनी ढंग से गिरा दिया गया। उसकी पत्नी और बच्चे के साथ दुर्व्यवहार किया गया और रिश्तेदारों को भी जानबूझकर एनकाउंटर में मार दिया गया।

एनकाउंटर की न्यायिक जांच की मांग करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि, "सजा देने का अधिकार सिर्फ न्यायपालिका को है। मैं उच्चतम न्यायालय से अपील करता हूं कि कोर्ट इस घटना का स्वतः संज्ञान लें और इसकी न्यायिक जांच हो। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश जस्टिस चंद्रचूड़ की निगरानी में सेवानिवृत्त न्यायाधीश जस्टिस काटजू, जस्टिस चेलमेश्वर और जस्टिस लोकुड़ के द्वारा जांच होनी चाहिए।"

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it