Begin typing your search...

मुजफ्फरपुर का शुगर फ्री आम, पकने से पहले कई बार बदलता है रंग

इस आम का रंग, शेप, साइज सामान्य आमों से बिल्कुल अलग है. इसके साथ ही यह आम शुगर फ्री है और इसका नाम अमेरिकन ब्यूटी है. किसान का कहना है की जो भी लोग यहां से गुजरते है वो एक बार इस आम का दीदार जरूर करते हैं।

मुजफ्फरपुर का शुगर फ्री आम, पकने से पहले कई बार बदलता है रंग
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

आम हर किसी को पसंद है, गर्मियों के मौसम में आम का मजा तो कुछ और ही है। फलों का राजा कहे जाने वाले आम की हजारों किस्में बाजार में मौजूद हैं। इन सबके बीच एक आम ऐसा भी है जो सुगरफ्री है और रंग बदलने वाला है। आजकल मुजफ्फरपुर का यह शुगर फ्री आम चर्चा में बना हुआ है। आइए जानते हैं इस आम के बारे में-

अमेरिकन ब्यूटी के नाम से मशहूर है यह आम

मुजफ्फरपुर के किसान भूषण सिंह के बगीचे का आम आजकल चर्चा का विषय बना हुआ है. इस आम का रंग, शेप, साइज सामान्य आमों से बिल्कुल अलग है. इसके साथ ही यह आम शुगर फ्री है और इसका नाम अमेरिकन ब्यूटी है. किसान का कहना है की जो भी लोग यहां से गुजरते है वो एक बार इस आम का दीदार जरूर करते हैं।

16 बार रंग बदलता है यह आम

मुजफ्फरपुर के मुशहरी गांव के रहने वाले किसान भूषण सिंह इस आम के पौधे को पश्चिम बंगाल से लेकर आए थे. इस खास किस्म के पौधे को उन्होंने 6 साल पहले अपने बगीचे में लगाया था. दो साल पहले से इस पेड़ में फल लगना शुरू हुआ. किसान भूषण सिंह का कहना है की यह आम शुरुआत से लेकर पकने तक 16 बार अपना रंग बदलता है. लेकिन इसका मंजर और दाना अन्य आमों की तरह ही होता है।

जुलाई में पक जाता है यह आम

भूषण सिंह बताते है यह आम पाँच महीने में तैयार हो जाता है. जुलाई महीने में यह आम पक कर तैयार हो जाएगा. पकने के बाद इस आम का वजन आधा किलो के आस पास होता है. किसान का कहना है की यह आम शुगर फ्री है जिस कारण से इसकी मिठास अन्य आमों की तुलना में कम है. हालांकि इसका स्वाद बहुत ही अच्छा है।

चर्चा में आने के बाद बढ़ी है आम की मांग

किसान भूषण सिंह बताते है की चर्चा में आने के बाद इसके पौधे की मांग बढ़ गई है. जो भी इस आम को देखता है वह एक बार इसके पौधे की मांग जरूर करता है. लेकिन बिहार में अभी तक इसके पौधे की नर्सरी नहीं है. लेकिन इसकी नर्सरी बनाने के दिशा में काम किया जा रहा है.

Satyapal Singh Kaushik
Next Story
Share it