Begin typing your search...

चाचा ने भतीजे को जिंदा जलाया, मामा के कहने पर चाचा-चाची और दादा-दादी को ने पुलिस हिरासत में लिया

चाचा ने भतीजे को जिंदा जलाया, मामा के कहने पर चाचा-चाची और दादा-दादी को ने पुलिस हिरासत में लिया
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

चाचा भजीजे के रिश्ते को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आई है पटना के गौरीचक थाना क्षेत्र के उसफा दरियापुर गांव में सोमवार की दोपहर संपत्ति विवाद में चाचा ने पहले मारपीटा इसके बाद कमरा बंद करके 17 वर्षीय भतीजे रौशन कुमार को किरासन से नहला दिया। इसके बाद आग लगाकर उसे जिंदा जलाकर मार डाला, जिससे युवक की मौके पर ही मौत हो गई।

सूचना के बाद गौरीचक थानाध्यक्ष दल-बल के साथ मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर पीएमसीएच पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस संबंध में गौरीचक थानाध्यक्ष लालमणि दुबे ने बताया कि मृतक के मामा अनिल कुमार गुप्ता के बयान पर चाचा मुकेश कुमार, चाची रानी देवी सहित चार लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। सभी को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बताया जाता है कि दरियापुर गांव निवासी जयराम प्रसाद उर्फ बब्लू साव का 17 वर्षीय इकलौता पुत्र रौशन कुमार गांव में ही रहकर पढ़ाई करता था। उसकी लाखों की जमीन हड़पने के लिए चाचा अक्सर उससे मारपीट करते रहता था। रौशन जमीन बेचने का विरोध करता था। इसी से चाचा-चाची खफा होकर पहले भी जान मारने के उद्देश्य से हमला किया था पर वह बाल-बाल बच गया था। सोमवार की सुबह मृतक रौशन से चाचा और चाची को जमीन बेचने को लेकर कहा सुनी हुई और लाठी डंडे से मारपीट करते हुए उसे एक कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद किरासन छिड़ककर आग लगा दिया।

जब आग से किसी चीज के जलने की महक आयी और कमरे से धुएं का गुब्बार उठने लगा तो अगल-बगल के लोग दौड़े पर कमरा बंद रहने के कारण वह निकल नहीं पाया। बाद में ग्रामीणों के सहयोग से कमरे का दरवाजा तोड़ा गया तो वह पूरी तरह जल चुका था। उसके बाद ग्रामीणों ने आक्रोशित होकर चाचा-चाची और दादा-दादी को एक कमरे में बंद कर दिया। जब पुलिस पहुंची तो चारों को हिरासत में लेकर थाना ले आई। घटना की सूचना पाकर उसके मामा मौके पर पहुंचे।

मृतक रौशन के पिता जयराम बाहर में प्राइवेट काम करता है। उसकी मां चाचा-चाची के डर से मायके में ही रहकर जीवन यापन करती है। भाई बहन दोनों दादा-दादी के पास रहकर पढ़ाई करते थे। जमीन ज्यादा रहने के कारण चाचा-चाची की नजर उनपर रहती थी। 20 वर्षीय बहन सोनम कुमारी को चार साल पहले ही आरोपितों ने गला दबाकर मार डाला था। इसके बाद से रौशन की हत्या करने की फिराक में था।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it