Begin typing your search...

बैंक का लोन माफ हो जाए इसलिए पति की कर दी हत्या, पत्नी के आशिक ने भी दिया था साथ

दोनों में यह बात तय हुई थी कि धर्मेंद्र की हत्या के बाद ये लोन खत्म हो जाएगा और आगे दोनों प्रेमी-प्रेमिका साथ रहने लगेंगे.

बैंक का लोन माफ हो जाए इसलिए पति की कर दी हत्या, पत्नी के आशिक ने भी दिया था साथ
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कटिहारः बैंक का लोन माफ हो जाए इसलिए एक महिला ने अपने प्रेमी और उसके एक दोस्त के साथ मिलकर पति की हत्या कर दी. घटना बीते 20 जून की है. इस मामले में पुलिस ने बुधवार को त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपित पत्नी सजली देवी समेत उसके प्रेमी राजू कुमार और उसके दोस्त संजीत पंडित को भी गिरफ्तार कर लिया है. इनके पास से हथियार और कारतूस भी बरामद किए गए हैं.

बताया जाता है कि मृतक की पत्नी सजली देवी और बैंक कर्मी राजू कुमार में पिछले कई महीनों से प्रेम संबंध था. बंधन बैंक में काम करने वाले राजू ने ही सजली के पति धर्मेंद्र रविदास को 90 हजार का लोन दिलवाया था. दोनों में यह बात तय हुई थी कि धर्मेंद्र की हत्या के बाद ये लोन खत्म हो जाएगा और आगे दोनों प्रेमी-प्रेमिका साथ रहने लगेंगे.

50 हजार रुपये में हत्या की दी गई थी सुपारी

घटना के दिन देर रात हत्या से पहले पत्नी सजली देवी ने ही घर का दरवाजा खोला. इसके बाद संजीत पंडित ने धर्मेंद्र रविदास को सोए अवस्था में सिर पर सटाकर गोली मार दी जिससे घटनास्थल पर ही धर्मेंद्र की मौत हो गई. हत्या करने के लिए 50 हजार रुपये में यह सौदा किया गया था.

गिरफ्तार प्रेमी के पास से प्रेमिका की फोटो भी मिली है. इसके साथ ही पुलिस ने कई सिम कार्ड, हत्या में प्रयुक्त पिस्टल, आठ जिंदा कारतूस, एक खोखा और बाइक जब्त की है. यह जानकारी कटिहार आरक्षी अधीक्षक विकास कुमार ने दी.

विकास कुमार ने कहा कि हत्या के बाद राजू कुमार और संजीत पंडित भाग गए. इसके बाद सजली देवी बेहोशी का नाटक कर अपने घर के आंगन के तरफ गिर गई. इसके बाद अपने देवर और अन्य लोगों को इसकी जानकारी दी. घटना के बाद राजू कुमार और संजीत पंडित पूर्णिया चले गए और राजू 21 जून को कटिहार कार्यालय लौट आया ताकि किसी को शक ना हो. इस घटना के बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it