Top
Begin typing your search...

Petrol Diesel Price : कच्चा तेल हुआ सस्ता, कीमतों में आई भारी गिरावट, जानिए-अपने शहर के पेट्रोल-डीज़ल के नए रेट्स

एक्सपर्ट्स का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में आई गिरावट एक अच्छा संकेत है.

Petrol Diesel Price : कच्चा तेल हुआ सस्ता, कीमतों में आई भारी गिरावट, जानिए-अपने शहर के पेट्रोल-डीज़ल के नए रेट्स
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

Petrol Price Today- विदेशी बाजार में कच्चा तेल सस्ता होने के बावजूद घरेलू बाजार में पेट्रोल-डीज़ल (Petrol Diesel Price) महंगा हो गया है. दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के दाम 101.64 रुपये प्रति लीटर हो गए है. वहीं, डीज़ल के दाम 89.87 रुपये प्रति लीटर है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतों में आई गिरावट एक अच्छा संकेत है. लेकिन अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में आई गिरावट की वजह से सस्ते क्रूड का फायदा घरेलू मार्केट में नहीं मिल रहा है.

जानिए पेट्रोल-डीज़ल नए रेट्स (Petrol Price Today)

दिल्ली में पेट्रोल 101.64 रुपये और डीजल 89.87 रुपये प्रति लीटर है. वहीं, मुंबई में पेट्रोल 107.71 रुपये और डीजल 97.52 रुपये प्रति लीटर है. चेन्नई पेट्रोल 99.36 रुपये और डीजल 94.45 रुपये प्रति लीटर है. कोलकाता में पेट्रोल 102.17 रुपये और डीजल 92.97 रुपये प्रति लीटर है.

ऑयल मार्केटिंग कंपनी HPCL, BPCL और IOC आप सुबह 6 बजे के बाद पेट्रोल डीज़ल के नए रेट जारी करती है. नए रेट्स के लिए आप वेबसाइट पर जाकर जानकारी हासिल कर सकते हैं.

वहीं, मोबाइल फोन पर SMS के जरिए भी रेट चेक कर सकते है. आप 92249 92249 नंबर पर SMS भेजकर भी पेट्रोल डीजल के भाव के बारे में पता कर सकते हैं.

आपको RSP<स्पेस> पेट्रोल पंप डीलर का कोड लिखकर 92249 92249 पर भेजना पड़ेगा. अगर आप दिल्ली में हैं और मैसेज के जरिये पेट्रोल डीजल का भाव जानना चाहते हैं तो आपको RSP 102072 लिखकर 92249 92249 पर भेजना होगा.

क्या आगे भी सस्ता होगा कच्चा तेल?

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, कच्चे तेल का एक्सपोर्ट करने वाली कंपनी ओपेक OPEC+ (The Organization of the Petroleum Exporting Countries) नवंबर में 4 लाख बैरल प्रति दिन कच्चे तेल की सप्लाई बढ़ा सकता है. ऐसे में कीमतें गिर सकती है.

कच्चे तेल की कीमतों का आप पर क्या होता है असर

कच्चे तेल के कीमत में और बढ़ोतरी से सरकार पर टैक्स में कटौती करने का दबाव पड़ सकता है, जिससे रेवेन्यू और खर्च पर असर हो सकता है. सरकार ने जून तिमाही में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले पहले ही संयम बरता है. आरबीआई ने वित्त वर्ष 2021-22 में अर्थव्यवस्था के 9.5 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान जताया है. इसमें जून तिमाही में 21.4 फीसदी की वृद्धि और सितंबर तिमाही में 7.3 फीसदी की बढ़ोतरी का अनुमान जताया है. इसके बाद दिसंबर तिमाही के लिए आरबीआई 6.3 फीसदी और मार्च तिमाही में 6.1 फीसदी की ग्रोथ का केंद्रीय बैंक ने अनुमान जताया है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it