Top
Begin typing your search...

राजकीय माध्‍यमिक विद्यालयों में रिक्‍त पदों पर की जा रही है भर्ती, गुरूवार को निुयक्ति पत्र देंगे मुख्‍यमंत्री

माध्यमिक शिक्षा विभाग के अनुसार लोकभवन में आयोजित नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में 200 चयनित शिक्षकों को बुलाया गया है।

राजकीय माध्‍यमिक विद्यालयों में रिक्‍त पदों पर की जा रही है भर्ती, गुरूवार को निुयक्ति पत्र देंगे मुख्‍यमंत्री
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। मिशन रोजगार के तहत लोकसेवा आयोग द्वारा चयनित सहायक अध्यापकों व प्रवक्ताओं को गुरूवार 12 अगस्त को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लोकभवन में नियुक्ति पत्र वितरित करेंगे। इससे पहले राजकीय माध्यमिक विद्यालयों के विभिन्न विषयों में रिक्त सहायक अध्यापकों के 10768 शिक्षक भर्ती में चयनित अध्यापकों को दो चरणों में ऑनलाइन माध्यम से नियुक्ति पत्र बांटे जा चुके हैं। गुरूवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ तीसरे चरण में 2667 एलटी ग्रेड व 179 प्रवक्ताओं को नियुक्ति पत्र देंगे।

माध्‍यमिक शिक्षा विभाग पहले चरण में 3,317 शिक्षकों और दूसरे चरण में 436 एलटी ग्रेड व प्रवक्ताओं को नियुक्ति पत्र वितरित कर चुका हैं। इससे पहले नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम का आयोजन ऑनलाइन किया गया था। इस बार चयनित शिक्षकों को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ अपने हाथों से नियुक्ति पत्र देंगे।

माध्यमिक शिक्षा विभाग के अनुसार लोकभवन में आयोजित नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में 200 चयनित शिक्षकों को बुलाया गया है। कार्यक्रम का आयोजन 12 बजे होगा। नियुक्ति पत्र पाने वाले चयनित शिक्षकों को सुबह साढ़े नौ बजे लोकभवन पहुंचना होगा। मुख्‍यमंत्री गुरूवार को लखनऊ, हरदोई, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, उन्नाव, रायबरेली, अयोध्या, कानपुर, प्रयागराज के शिक्षकों को लोकभवन बुलाया गया है। बाकी शिक्षकों को जिलों में जनप्रतिनिधियों द्वारा नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने पहली बार एलटी ग्रेड परीक्षा का जिम्मा लोक सेवा आयोग को सौंपा और लिखित परीक्षा से सहायक अध्यापकों की भर्ती का निर्णय लिया। इसकी लिखित परीक्षा 2018 में हुई थी। विभाग के अनुसार ऑनलाइन पदस्थापित किये जा रहे अभ्यर्थियों को उनकी इच्छानुसार जनपद तथा विद्यालयों के विकल्प चयन करने का अधिकार दिया गया है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it