Top
Begin typing your search...

खुशबु विश्वकर्मा के सुसाइड मामले में आया नया मोड़, क्या प्रेम संबंधो में ऐसा होता है!

खुशबु विश्वकर्मा के सुसाइड मामले में आया नया मोड़, क्या प्रेम संबंधो में ऐसा होता है!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

24 जून को उसलापुर के ग्रीन गार्डन कॉलोनी स्थित फ्लैट के चौथे माले से छलांग लगाकर जूना बिलासपुर में रहने वाली 26 वर्षीय खुशबू विश्वकर्मा ने खुदकुशी कर ली थी। इस मामले में परिजन शुरू से ही व्यापारी राजेश गुप्ता पर संदेह जता रहे थे, लेकिन पुलिस ने जांच के बाद राजेश को क्लीन चिट दे दी और मामला ठंडे बस्ते में चला गया।

मगर ठीक 1 महीने बाद नए एसपी दीपक झा ने इस मामले का फाइल वापस खुलवाया। एसपी के निर्देश पर मृतिका के कॉल डिटेल खंगाले गए तो पता चला कि खुशबू जिस दुकान में काम करती थी उसके संचालक राजेश गुप्ता और उसके बीच मधुर संबंध थे और दोनों के बीच विवाद के चलते ही खुशबू ने व्यापारी के फ्लैट गोल्डन ऑक से कूदकर जान दे दी थी। एसपी के दबाव के बाद अब 3 दिनों में जांच पूरी कर व्यापारी को गिरफ्तार भी कर लिया गया। खुशबू विश्वकर्मा पिछले 7 सालों से राजेश गुप्ता के बिजली दुकान में काम कर रही थी लेकिन लॉकडाउन के कारणों से हटा दिया गया था। बताया गया कि वह दोबारा नौकरी मांगने 24 जून को राजेश गुप्ता की दुकान गई थी लेकिन उसे बेइज्जत कर भगा दिया गया, जिसके बाद उसने राजेश गुप्ता के फ्लैट से कूदकर जान दे दी।

लेकिन इसी दौरान यह पता चला कि पिछले 6-7 सालों से खुशबू सिर्फ राजेश गुप्ता के बिजली दुकान में काम ही नहीं कर रही थी बल्कि दोनों के बीच मधुर संबंध भी स्थापित हो गए थे और प्रेमी- प्रेमिका की तरह दोनों रोज घंटों बात भी करते थे।यह भी पता चला कि राजेश गुप्ता उसे पिछले कुछ समय से प्रताड़ित कर रहा था। उसने खुशबू को नौकरी से तो निकाल दिया था लेकिन उसके साथ अपने संबंध नहीं तोड़े थे और वह उस पर हर वक्त दबाव बनाया करता था।

पुलिस ने जब कॉल डिटेल खंगाले तो मोबाइल ने कई राज उगल दिए। पता चला कि प्रेम संबंध की वजह से ही धोखा खाने पर खुशबू विश्वकर्मा ने खुदकुशी की थी और इसके लिए राजेश गुप्ता ने ही उसे मजबूर किया था। पुलिस ने आरोपी राजेश गुप्ता को कस्टडी में लेकर जब पूछताछ की तो उसने भी यह बातें स्वीकार कर ली, जिसके बाद उसे घटना के करीब महीने भर बाद गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि मृतका के भाई विवेक विश्वकर्मा ने पहले ही यह अंदेशा जताया था कि उसकी बहन की हत्या की गई है और इसके पीछे राजेश गुप्ता का ही हाथ है। आखिर जूना बिलासपुर में रहने वाली युवती क्यों उसलापुर के गोल्डन ऑक अपार्टमेंट में जाकर अपनी जान देगी ? कहीं ना कहीं इसका ताल्लुक उस राजेश गुप्ता से है जिसके दुकान में खुशबू विश्वकर्मा काम करती थी।

हालांकि राजेश गुप्ता शादीशुदा है। एक बार फिर अवैध संबंधों की वजह से ना सिर्फ एक जान गई बल्कि एक खुशहाल शादीशुदा जिंदगी भी बर्बाद होने की कगार पर है और आरोपी सलाखों के पीछे पहुंच चुका है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it