Begin typing your search...

टी एस सिंह देव का इस्तीफा छत्तीसगढ़ में नयी उठापटक की शुरुआत तो नहीं

अपनी ही सरकार पर लगाए लिखित आरोप

टी एस सिंह देव का इस्तीफा छत्तीसगढ़ में नयी उठापटक की शुरुआत तो नहीं
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo


रोमी सिद्दीकी/अम्बिकापुर/

सरगुजा सहित पुरे प्रदेश की राजनीति में इन दिनों अजीब से बदलाव आने के संकेत मिलना शुरू हो गये हैं। राज्य के कांग्रेस के कद्दावर नेता और सरकार में मंत्री टीएस सिंह देव ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। राजनीति के जानकार भी अपने माथे पर हाथ लगा कर बैठ गए हैं कि आखिर ऊंट अब किस करवट बैठेगा। जी हाँ हम बात कर रहे कांग्रेस के दिग्गज नेता, सरगुजा रियासत के महाराज, अम्बिकापुर के विधायक टी एस सिंह देव व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की जो एक समय एक गहरे दोस्त के साथ साथ छत्तीसगढ़ कांग्रेस राजनीति के चमकते हुए ध्रुव तारे थे, लेकिन आज राजनीति की बदली परिस्थितियों के कारण एक दूसरे के घोर विरोधी हो गए हैं।


अपनी ही सरकार पर लगाए लिखित आरोप

कारण चाहे जो भी हो लेकिन 15 वर्षोँ के बाद भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकने में सड़क से लेकर सिंहासन तक के सफर में इन दोनों नेताओं ने मेहनत करने में कोई कसर नही छोड़ी थी। युवाओं में नया जोश भरने व सत्ता में बैठे भाजपा से सीधी टक्कर लेने में वर्तमान मुख्यमंत्री को सीबीआई से पुछताछ से लेकर जेल जाना पड़ा था वहीं लंबे समय से कांग्रेस में रहकर कांग्रेस में भीतरघात करने वाले कांग्रेस के नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाने में भी पीछे नहीं रहे जिससे कांग्रेस को लंबे समय के बाद सत्ता का सुख नसीब हुआ। चुनाव में बेहतर रणनीति बनाने व किसी ना किसी बात से कांग्रेस से नाराज कार्यकर्ताओं को मनाने व चुनाव में किसी भी संसाधन की कमी ना हो इसके लिए एक बेहतर कार्ययोजना बनाने में या फिर जनघोषणा पत्र तैयार करने में जो काबिलियत टी एस सिंह देव ने दिखाई उससे आज भी कांग्रेस के शीर्ष नेता प्रभावित हैं। यही कारण है कि समय समय पर श्री सिंह देव को दूसरे राज्यों का भी घोषणा पत्र तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई। बहरहाल वर्ष 2018 में छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनने से ठीक पहले जो विवाद बना आज वही विवाद काँग्रेस को आने वाले समय में फिर से वनवास में ना भेज दे ऐसी परिस्थितियों अब बनने लगी हैं। राजनीति के जानकारों की मानें तो कैबिनेट मंत्री श्री सिंह देव ने अपने ही सरकार पर जो गंभीर आरोप लगाए हैं उससे तो यही प्रतीत होता है कि अब श्री सिंह देव ज्यादा समय कांग्रेस की राजनीति में रहने वाले तो नहीं हैं। जाहिर है राजनीति करने के लिए जिस भी पार्टी को वे चयन करें उसमें वे अपने आप को क्लीन चिट देने के लिए इन आरोपों को ही जनता के बीच लेकर जाएंगे। जाहिर है ऐसी स्थिति में जनता की सहानुभति टी एस सिंह देव जी के साथ होगी जिसका सीधा खमियाजा कांग्रेस पार्टी को उठाना पड़ सकता है। राजनीतिज्ञों की मानें तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व टी एस सिंह देव के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर एक प्रकार की अंदरूनी खींचातानी लंबे समय से चली आ रही थी जिसकी जानकारी दिल्ली में बैठे कांग्रेस के शीर्ष नेताओं को भी भलीभांति है लेकिन इसके बावजूद उनके द्वारा मामला शांत कराने के बजाए चुप रहना कइयों सवाल खड़े करता है।

बहरहाल दिल्ली दरबार में मुख्यमंत्री की पैठ जबरदस्त है, इससे हर कोई वाकिफ है। ऐसे में मुख्यमंत्री ने अपने रसूख का उपयोग करते हुए कई अवसरों में श्री सिंह देव और उनको समर्थकों को सरकारी मशीनरी से डैमेज करने मैं भी परहेज नहीं किया। आलम तो अंबिकापुर में यहां तक पहुंच गया कि उनके कई खास माने जाने वाले नेताओं के घरों में पुलिस ने दबिश तक दे दी। यही नहीं सरगुजा के कलेक्टर से एसपी तक एसडीएम से तहसीलदार तक के अधिकारी श्री देव के समर्थकों को नजरअंदाज करने लगे जिससे कार्यकर्ताओं में श्री देव को लेकर काफी नाराजगी भी देखी गई। यह सब एक सोची समझी चाल की तरह सरगुजा में अपनाया जा रहा हैख् वहीं एक मंत्री को इतना पावरफुल बना दिया गया है कि उसके आने भर से कलेक्टर ,एसपी, कमिश्नर ,चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट सहित तमाम सरकारी मशीनरी उसके पीछे खड़े हो जाते हैं। यह सब सिर्फ इसलिए ताकि किसी तरह श्री सिंह देव के कद को छोटा से छोटा किया जा सके। जाहिर है ऐसा होने से टी एस सिंह देव के कई समर्थक टूटकर दूसरे खेमे में चले गए हैं। वहीं सूत्रों की माने तो उनके मंत्रालय में भी उनके अधिकारों को सचिव स्तर के अधिकारियों को हस्तांतरित करने से उन्हें काम करने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था।

कई निर्णय ऐसे राज्य सरकार के द्वारा उनके मंत्रालय से लिए गए उन निर्णयों के संबंध में उनसे कोई चर्चा नहीं की गई ऐसी स्थिति मंन ही श्री सिंह देव ने यह कदम उठाया होगा। वही राज्य सरकार के प्रवक्ता मंत्री रविन्द्र चौबे ने मीडिया के समक्ष यह बताया है कि श्री सिंह देव के इस कदम को लेकर कांग्रेस के विधायक काफी नाराज हैं और वे इसे अनुशासनहीनता मान रहे हैं जिसे लेकर 61 विधायकों ने संयुक्त हस्ताक्षर कर के आलाकमान को श्री सिंह देव के विरुद्ध कार्रवाई हेतु पत्र लिख दिया है इसके बावजूद कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की ओर से इस संबंध में कोई भी जवाब नहीं आना कहीं ना कहीं छत्तीसगढ़ के कांग्रेस में सरगर्मी तेज होने वाली है।

माजिद अली खां

About author
माजिद अली खां, पिछले 15 साल से पत्रकारिता कर रहे हैं तथा राजनीतिक मुद्दों पर पकड़ रखते हैं. 'राजनीतिक चौपाल' में माजिद अली खां द्वारा विभिन्न मुद्दों पर राजनीतिक विश्लेषण पाठकों की सेवा में प्रस्तुत किए जाते हैं. वर्तमान में एसोसिएट एडिटर का कर्तव्य निभा रहे हैं.
Next Story
Share it