Top
Begin typing your search...

कोरोना पर CM केजरीवाल बोले, दिल्ली में गंभीर केस बहुत कम, 75% मामलों में लक्षण नहीं, ICU में 91 मरीज

दिल्ली में लगभग 7000 पॉजिटिव मामलों में से लगभग 1500 अस्पताल में हैं.

कोरोना पर CM केजरीवाल बोले, दिल्ली में गंभीर केस बहुत कम, 75% मामलों में लक्षण नहीं, ICU में 91 मरीज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : देश में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है. देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मरीजों का आकंड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. दिल्ली में आज के आकंड़ों के अनुसार मरीजों की संख्या 7 हजार तक पहुँच गयी है. जिसको लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. केजरीवाल ने दौरान दिल्ली में कोरोना वायरस के आंकड़े पेश किए.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने बताया कि यहां 75 फीसदी मामले हल्के लक्षण वाले हैं. उन्होंने आगे कहा दिल्ली में कोरोना से हुई कुल मौतों में से 82 प्रतिशत 50 साल से ऊपर के हैं.

दिल्ली में 91 मरीज आईसीयू में 27 मरीज वेंटिलेटर पर

केजरीवाल ने कहा "हम देख रहे हैं कि वृद्ध लोगों की अधिक मौतें हो रही हैं. दिल्ली में लगभग 7000 पॉजिटिव मामलों में से लगभग 1500 अस्पताल में हैं. अधिकांश मामले हल्के लक्षण वाले हैं." उन्होंने बताया कि दिल्ली में 91 मरीज आईसीयू में हैं जबकि 27 मरीजों का इलाज वेंटिलेटर पर चल रहा है. वहीं 2069 मरीज अब तक कोरोना वायरस से ठीक हो चुके हैं.

केजरीवाल ने कहा, "इस मुसीबत की घड़ी में कोरोना वॉरियर्स अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों का इलाज कर रहे हैं. ऐसे में अगर वे कोरोना वायरस का शिकार होंगे तो उनके बेहतर इलाज की भी जिम्मेदारी हमारी है."

केजरीवाल ने प्रवासी मजदूर के पलायन को लेकर दुख जताया

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम केजरीवाल ने प्रवासी मजदूर के पलायन को लेकर भी दुख जताया. उन्होंने कहा, "मैं कई दिनों से सोशल मीडिया पर मजदूरों के पलायन की तस्वीरें देख रहा हूं. जिनमें मजदूर पैदल चल रहे हैं. उनके पैरों में छाले पड़ गए. ये देखकर तकलीफ होती है."

अरविंद केजरीवाल ने मजदूरों से अपील करते हुए कहा, "हमनें आपके खाने पीने का बंदोस्त किया हुआ है. आप दिल्ली छोड़कर मत जाइए. लेकिन फिर भी आप जाना चाहते हैं तो आपको लिए हमनें ट्रेनों का इंतजाम किया है. हमनें बिहार और मध्यप्रदेश ट्रेन भेजी भी है. हम आपकी जिम्मेदारी लेते हैं बस आप पैदल मत जाइए."

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it