Begin typing your search...

दिल्ली में 'चाइनीज मांझे' से बाइक सवार युवक की दर्दनाक मौत, जब तक बुलेट रोकते तब तक कट चुकी थी गर्दन...'

बताया जा रहा है कि मृतक की गर्दन में भी मांझे का टुकड़ा फंसा हुआ था पुलिस ने मांझे के टुकड़े को जांच के लिए अपने कब्जे में ले लिया है।

दिल्ली में चाइनीज मांझे से बाइक सवार युवक की दर्दनाक मौत, जब तक बुलेट रोकते तब तक कट चुकी थी गर्दन...
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली से एक बेहद ही दुखद खबर सामने आ रही है. घातक और जानलेवा चाइनीज मांझे की चपेट में आकर एक युवक की दर्दनाक मौत हो गई, मांझे से उसकी गर्दन कट गई जिससे बेहद खून बह जाने से उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मृत युवक का नाम सुमित था और वो एक व्यापारी है, सुमित बाइक से अपने घर लौट रहे थे तभी हैदरपुर-बादली मोड़ मेट्रो स्टेशन के सामने फ्लाईओवर पर पहुंचने के बाद वह मांझे की चपेट में आ गए इससे उनकी गर्दन कट गई।

इस घटना के बाद वहां से गुजर रहे लोग जब वहां पहुंचे तो देखा कि सुमित के गले से बेतहाशा खून बह रहा है, इसके बाद वो उसे लेकर पास से एक प्राइवेट हॉस्पिटल लेकर गए लेकिन डॉक्टर ने सुमित को मृत घोषित कर दिया।

उनकी गर्दन में भी मांझे का टुकड़ा फंसा हुआ था

पुलिस ने लापरवाही से मौत की धारा में केस दर्ज कर लिया है, बताया जा रहा है कि मृतक की गर्दन में भी मांझे का टुकड़ा फंसा हुआ था पुलिस ने मांझे के टुकड़े को जांच के लिए अपने कब्जे में ले लिया है। सुमित अपने माता पिता के इकलौते बेटे थे, तीन साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। इससे पहले दिल्ली के ही न्यू उस्मानपुर इलाके में पिछले हफ्ते एक शख्स की गर्दन कट गई थी, जिसमें उसे 5 से ज्यादा टांके लगे थे।

चाइनीज मांझा बैन होने के बाद भी यह बाजारों में बिक रहा 'खुलेआम'

चाइनीज मांझे से सैकड़ों लोग हो चुके हैं घायल और चाइनीज मांझा बैन होने के बाद भी यह भारत के बाजारों में खुलेआम बिक रहा है, जिसके चलते कई लोग घायल हो जाते हैं, यह सबसे ज्यादा पक्षियों के लिए हानिकारक है क्योंकि इसकी चपेट में आकर ना जाने कितने पक्षियों की दर्दनाक मौत हो चुकी है। चीनी मांझा' (Chinese manjha) कितना घातक होता है इस बारे में किसी को कुछ बताने की आवश्यकता नहीं है, कितने ही हादसे चीनी मांझे की वजह से हो चुके हैं और तमाम जान इस घातक मांझे की वजह से गई हैं ये सबके सामने है, फिर भी ऐसी घटनाओं पर अंकुश नहीं लग रहा है।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it