Top
Begin typing your search...

दिल्ली दंगों के मामले में कोर्ट ने 4 लोगो को किया बरी

दिल्ली की एक अदालत ने दंगे के एक मामले में चार लोगों को बरी करते हुए कहा कि दंगाइयों की पहचान के पहलू पर अभियोजन पक्ष के दो गवाहों- एक कॉन्स्टेबल और एक हेड कॉन्स्टेबल की गवाही पर किसी तरह का भरोसा करने में वह 'पूरी तरह अनिच्छुक' महसूस कर रही है।

दिल्ली दंगों के मामले में कोर्ट ने 4 लोगो को किया बरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली की एक अदालत ने दंगे के एक मामले में चार लोगों को बरी करते हुए कहा कि दंगाइयों की पहचान के पहलू पर अभियोजन पक्ष के दो गवाहों- एक कॉन्स्टेबल और एक हेड कॉन्स्टेबल की गवाही पर किसी तरह का भरोसा करने में वह 'पूरी तरह अनिच्छुक' महसूस कर रही है।

राजधानी दिल्ली में 26 फरवरी 2020 के दंगों के दौरान अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीरेंद्र भट्ट ने भागीरथी विहार इलाके में एक घर और एक दुकान में आग लगाने, लूटपाट और तोड़फोड़ करने से संबंधित मामले में दिनेश यादव, टिंकू, साहिल और संदीप को बरी कर दिया।

अफजाल सैफी और शोएब की दो शिकायतों के आधार पर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। बता दें कि सैफी ने अपनी शिकायत में दावा किया था कि एक दंगाई भीड़ उसके घर में घुस आई थी जिसने तोड़फोड़ की, लूटपाट की और आग लगा दी। शोएब ने भी इसी तरह की शिकायत दाखिल कर अपनी दुकान में चोरी होने का आरोप लगाया था। दोनों शिकायतों को जोड़ दिया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष के साक्ष्यों की प्रकृति के मद्देनजर आरोपियों की पहचान ऐसे दंगाइयों के रूप में करना बहुत संशयपूर्ण हो जाता है, जिन्होंने अभियोजन पक्ष के गवाह 1 (सैफी) के घर पर लूटपाट और आगजनी की हो। यह अदालत आरोपियों की दंगाइयों के रूप में पहचान के पहलू पर अभियोजन गवाह 8 और 12 की गवाही पर भरोसा करने में पूरी तरह अनिच्छुक लगती है। इस फैसले में अभियोजन पक्ष के गवाह 8 और 12 से आशय कॉन्स्टेबल और हेड कॉन्स्टेबल से है।

Sakshi
Next Story
Share it