Top
Begin typing your search...

त्रिलोचन सिंह वजीर हत्याकांड में क्राइम ब्रांच ने जम्मू और अमृतसर में की छापेमारी, दो संदिग्धों की तलाश

त्रिलोचन सिंह वजीर हत्याकांड में क्राइम ब्रांच ने जम्मू और अमृतसर में की छापेमारी, दो संदिग्धों की तलाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने नेशनल कांफ्रेंस के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या के मामले में जांच शुरू कर दी है। आरोपियों की धरपकड़ के लिए दो टीमें जम्मू और एक टीम अमृतसर के लिए रवाना की गई हैं। अब तक की जांच में खुलासा हुआ है कि हरप्रीत ने अपने दोस्त हरमीत के साथ मिलकर त्रिलोचन सिंह की हत्या की है।

त्रिलोचन सिंह के भाई ने प्राथमिकी में इसका जिक्र किया है। उन्होंने जम्मू के रहने वाले दो लोगों पर हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के एसएसपी पद से रिटायर त्रिलोचन सिंह के भाई भूपेंदर सिंह ने प्राथमिकी में बताया कि उनके भाई के बच्चे कनाडा में रहते हैं।

भूपेंदर सिंह के मुताबिक, 8 सितंबर को त्रिलोचन सिंह के दोस्त रणजोत सिंह नलवा ने हरप्रीत से फोन पर बात की। हरप्रीत ने नलवा से कहा कि उसने अपने दोस्त हरमीत के साथ मिलकर त्रिलोचन की हत्या कर दी है। भूपेंदर सिंह ने जम्मू के रहने वाले सुदर्शन सिंह और सुरेंदर सिंह काला पर हत्या की साजिश रचने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि त्रिलोचन की दोनों से पुरानी रंजिश थी। उन्होंने कई बार उन्हें मरवाने की धमकी दी थी।

नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता त्रिलोचन सिंह की हत्या के मामले में जिस हरप्रीत सिंह की पुलिस को तलाश है, वह फोन पर उनका कत्ल करने की बात कबूल कर चुका है। क्राइम ब्रांच की टीम हरप्रीत की गर्लफ्रेंड से भी पूछताछ करेगी। हालांकि स्थानीय मोती नगर थाना पुलिस उसकी गर्लफ्रेंड से पूछताछ कर चुकी है। क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के मुताबिक, कनाडा से बेटे करण के दिल्ली पहुंचने के बाद शुक्रवार शाम लेडी हार्डिंग अस्पताल में त्रिलोचन सिंह के शव का पोस्टमार्टम किया गया।

इस मामले में हत्या का मामला दर्ज किया गया है और जांच दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है। सूत्रों के अनुसार, पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी फुटेज की जांच की और पाया कि वजीर का शव मिलने से एक दिन पहले बुधवार को आरोपी इमारत में मौजूद थे। सूत्रों ने कहा कि प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता की 2 सितंबर को हत्या की गई थी।

वजीर के भाई ने दावा किया था कि जम्मू के रहने वाले त्रिलोचन सिंह 2 सितंबर को अपने परिवार से मिलने के लिए कनाडा जाने वाले थे। एक अधिकारी ने कहा कि जब कई दिनों तक उनकी कोई खबर नहीं मिली, तो उनके परिवार ने जम्मू पुलिस को सूचित किया। जिसने दिल्ली पुलिस से संपर्क किया। गुरुवार को दिल्ली पुलिस के पास त्रिलोचन के पड़ोसी का फोन आया था कि फ्लैट से दुर्गंध आ रही है। मौके पर पहुंची पुलिस ने वहां से वजीर का शव बरामद किया था।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it