Top
Begin typing your search...

दिल्ली में अगले 48 घंटों में आ सकता है कोरोना का पीक, स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किया अलर्ट

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पीक पहले ही आ चुका है, या एक या दो दिन में आ जाएगा। यह (पीक) इस सप्ताह निश्चित रूप से होगा।

दिल्ली में अगले 48 घंटों में आ सकता है कोरोना का पीक, स्वास्थ्य मंत्री ने जारी किया अलर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दिल्ली में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना की तीसरी लहर के बीच अब अगले दो दिन के अंदर दिल्ली में कोरोना (COVID-19) मामलों के पीक पर पहुंचने की संभावना है। बता दें कि राजधानी में सोमवार को 19,000 से अधिक नए मामले सामने आए थे, जो रविवार के 22,751 से थोड़े कम थे।

बता दें कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आज मंगलवार को एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि निश्चित रूप से इस सप्ताह राजधानी में कोरोना के केस पीक पर पहुंचने की संभावना है और उसके बाद मामलों में कमी आनी हो शुरू हो सकती है। यह पूछे जाने पर कि क्या दिल्ली सरकार वीकेंड कर्फ्यू पर फिर से विचार करेगी, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पीक पहले ही आ चुका है, या एक या दो दिन में आ जाएगा। यह (पीक) इस सप्ताह निश्चित रूप से होगा। इसके बाद मामलों में गिरावट शुरू होनी चाहिए, लेकिन यह संभव है कि हम एक और कर्फ्यू लागू कर सकते हैं, सिर्फ लोगों को यह याद दिलाने के लिए कि वे अपने सुरक्षा उपायों को कम न करें।

जैन ने कहा कि दिल्ली में टेस्ट कराने वाला हर चौथा शख्स कोविड-19 पॉजिटिव निकल रहा है। इसके साथ ही शहर में 17 मौतों की भी सूचना है। पॉजिटिविटी रेट सोमवार को 25 प्रतिशत था, जो पिछले साल 5 मई के बाद सबसे अधिक है।

साथ ही सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के मामले आमतौर पर इसलिए अधिक होते हैं क्योंकि अधिकांश अंतरराष्ट्रीय उड़ानें यहां उतरती हैं। ओमिक्रॉन केवल इसी कारण से दिल्ली में तेजी से फैला है। बता दें कि इस बार एक अच्छा संकेत यह है कि अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या बहुत कम है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हर दिन लगभग 20,000 मरीज मिलने के बावजूद, अस्पताल में केवल 2,000 बेड्स ही भरे हैं, जबकि कोविड मरीजों के लिए 12,000 बेड खाली हैं। पिछली लहर में जब दिल्ली में एक दिन में 20,000 मामले आ रहे थे, कम से कम 12,000-13,000 बेड भरे हुए थे।

Sakshi
Next Story
Share it