Top
Begin typing your search...

कोई तो कुछ बोलो, यहाँ तो 3 माह की बेटी से लेकर 75 वर्ष की माँ तक सुरक्षित नहीं है

अब हर घंटे में 4 महिलाओं की आबरू लुटती है। नानक की धरती पर,महावीर के देश में,जहां राम,कृष्ण करते हो वास।

कोई तो कुछ बोलो, यहाँ तो 3 माह की बेटी से लेकर 75 वर्ष की माँ तक सुरक्षित नहीं है
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

क्या हाल हो गया,मेरे भारत का हे भगवन, ऐसा लगता है,इंसान कम हैवान ज्यादा पैदा हो रहे हैं। जब नज़र उठा कर देखा आज के हालातों को तो आत्मा कांप जाती है।

3 माह की बेटी से लेकर 75 वर्ष की माँ तक सुरक्षित नहीं है इस दौर में। संतो एवं सूफियों के देश में,जहां प्रेम की गंगा बहती थी, अब हर घंटे में 4 महिलाओं की आबरू लुटती है। नानक की धरती पर,महावीर के देश में,जहां राम,कृष्ण करते हो वास। साईं ख्वाजा की कर्म भूमि पर मासूम बेटियों एवं महिलाओं पर अत्याचार, फिर भी चुप बैठे हो भगवन।

कुछ घटनाएं ऐसी होती है,जो आत्मा को झकझोर देती है।

ऐसी घटनाएं सुनने के बाद अपने आपको इंसान कहने में भी शर्म आती है। हम से कई गुना अच्छे जानवर हैं,हम जानवरों से भी बदतर हो गए हैं। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में एक होनहार बेटी मनचलों की भेंट चढ़ गई,जो हमारे देश का नाम उज्जवल करने वाली थी, इस बेटी के वजह से हमारे सिर फक्र से उठ जाते पर इस घटना के बाद शर्म से सिर झुक गए हैं पुलिस का वही घिसा पिटा बयान जांच हो रही है, जांच में ऐसा कुछ नहीं पाया गया। बुलंदशहर की सड़क इस होनहार बेटी के खून से लाल हो गई, मनचले युवक बुलेट मोटरसाइकिल से पीछा कर रहे थे,बार-बार ओवरटेक करके परेशान कर रहे थे, जिसकी वजह से सड़क हादसा हुआ और तीन करोड़ 84 लाख रुपए की स्कॉलरशिप पाने वाली बेटी ने सड़क हादसे में दम तोड़ दिया । वहीं इसी वर्ष उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में छेड़छाड़ के बाद हत्या से लाल हुई थी बाराबंकी की धरती । युवती के विरोध करने पर दबंगों ने युवती की पीट-पीटकर मार डाला। पीड़िता खेत में चारा लेने गई थी, दबंगों ने उसे घेर कर उसके साथ अश्लील हरकतें करने की कोशिश की, उसका केवल इतना कुसूर था की उसने दबंगों की हरकतों का विरोध किया था, उसको सजा यह मिली की उसको इतना पीटा गया की अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

वर्ष 2018 मध्यप्रदेश के इंदौर में 3 महीने 4 दिन की एक मासूम बच्ची का अपहरण,बलात्कार और हत्या इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना हुई। 20 अप्रैल 2018 मध्यप्रदेश के इंदौर में घटी थी,तीन माह की मासूम बच्ची माता-पिता के साथ सो रही थी सुबह 4:00 बजे वहशी दरिंदा बच्ची को उठाकर ले गया उसके बाद उस बच्ची के साथ घिनौना कृत्य किया और हत्या कर के उसे एक बेसमेंट में फेंक दिया। पुलिस की तत्परता के कारण आरोपी पकड़ा गया और उसको फास्ट ट्रैक कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई।

केरल में ऐसी घटना हुई जिसको सुनकर विश्वास नहीं होता कि इंसान इतना गिर सकता है।

केरल में शर्मसार करने वाली घटना ।

75 वर्ष की बुजुर्ग महिला के साथ बलात्कार , बुजुर्ग का अस्पताल में इलाज जारी हैं। केरल के एर्नाकुलम में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक 75 साल की महिला से बलात्कार किया गया। इतना ही नहीं, बुजुर्ग पीड़िता को बेरहमी से पीटा भी गया। इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। प्राइवेट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में महिला का इलाज चल रहा है,अस्पताल के डॉक्टर ने बताया कि महिला की हालत में अब सुधार है।

पुलिस ने जिन तीन लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें 66 साल की एक महिला भी शामिल है। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने घर पर महिला के साथ हैवानियत की हदें पार कर दी थी। आरोपी ने महिला का रेप किया,वह नशे में था। इस घटना में महिला को मानसिक आघात पहुंचा है। इससे पहले केरल में नन के साथ बलात्कार का मामला सामने आया था, जिसमें फ्रैंको मुलक्कल नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था।

उत्तर प्रदेश के हापुड़ में छह साल की बच्ची के साथ अत्याचार एवं बलात्कार, मासूम के साथ इस तरह की दरिंदगी हुई है,कि वह मेरठ के मेडीकल कॉलेज में जिंदगी के लिए मौत से लड़ रही है। डॉक्टरों का कहना है कि इलाज में लंबा वक्त लग सकता है।

पीड़ित बच्ची को शाम छह बजे बाइक सवार बदमाशों ने अगवा किया था। दूसरे दिन सुबह तीन किलोमीटर दूर बच्ची बेहोशी की हालत में मिली थी।

वाह भगवन वाह, यह सब देखने के बाद भी चुप हो, मासूम बच्चियों की चीखों को सुनने के बाद भी चुप हो। बुजुर्ग महिला के आंसुओं को देखने के बाद भी चुप हो।

भगवन ऐसी हवा चलाओ इंसान रूपी भेड़ियों को धरती से रुखसत करवाओ। छोटे से वायरस कोरोना से कुछ ना होगा ।

ऐसा वायरस भेजो जो इंसानों एवं भेड़ियों के बीच का फर्क समझ सके।

सुना है तेरी लाठी की मार में आवाज नहीं होती पर इस बार तेरी मार में आवाज गूंजे और यह आवाज़ उन बच्चियों के माता-पिता तक पहुंचे इस आवाज़ से उनको कुछ राहत मिल सके।

हम जंगल में दरिंदों के साथ रहते हैं , यह खौफ है,कोई इंसा रूपी भेड़िया ना आ जाए।

अब तो जागो भगवान ना तुम चुप रहो, ना हम चुप रहे । सुरक्षित रहे हमारी बेटियां यही दुआ करते हैं।

वो छोटी सी बच्ची थी,

ढंग से बोल ना पाती थी।

देख के जिसकी मासूमियत,

उदासी मुस्कान बन

जाती थी।।

उस पर ये अन्याय हुआ,

यह कैसा तेरा

विधान है भगवन ।।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it