Top
Begin typing your search...

पटरी पर फिर दौड़ी उम्मीदों की रेल, ई-टिकट के साथ वाहन ड्राइवरों को मिलेगा ये

पटरी पर फिर दौड़ी उम्मीदों की रेल, ई-टिकट के साथ वाहन ड्राइवरों को मिलेगा ये
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। लाकडाउन में ट्रेनों की अभूतपूर्व देशव्यापी बंदी के बाद मंगलवार से उम्मीदों की रेल फिर से दौड़ने लगी है। दिल्ली, मुंबई, हावड़ा, अहमदाबाद, पटना और बंगलुरु से मंगलवार को कुल आठ राजधानी स्पेशल ट्रेनें शुरु हुईं। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से 50 दिनों बाद तीन स्पेशल ट्रेनें लगभग साढ़े तीन हजार यात्रियों को लेकर अपने गंतव्य स्टेशनों की ओर रवाना हुईं।

ट्रेनों में सवारियों को बैठने से पहले कड़ी जांच परख

नई दिल्ली-विलासपुर राजधानी एक्सप्रेस को बंदी के बाद चलने वाली पहली ट्रेन बनी। ट्रेनों में सवारियों को बैठने से पहले कड़ी जांच परख के साथ उनके सामानों को सैनेटाइज किया गया। रेल यात्रियों के अपने गंतव्य वाले स्टेशनों पर पहुंचने पर उन्हें अपने घर पहुंचाने अथवा क्वारंटीन करने आदि का फैसला संबंधित राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया।

सभी यात्रियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप

राजधानी दिल्ली से बिलासपुर के लिए छूटने वाली पहली ट्रेन में 741 पीएनआर वाले टिकटों पर कुल 1177 सवारियां यात्रा कर रही हैं। जबकि डिब्रूगढ़ वाली राजधानी एक्सप्रेस में 442 पीएनआर वाले टिकटों पर कुल 1122 यात्री जा रहे हैं। नई दिल्ली-बंगलुरु राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन से 804 पीएनआर वाले टिकटों पर 1162 यात्रियों ने यात्रा शुरु की। स्टेशन पर पहुंचने वाले सभी यात्रियों से आरोग्य सेतु एप्लीकेशन डाउनलोड करने के बारे में पूछा गया, जिसमें से लगभग सभी ने हां में जवाब दिया।

रेलवे जल्दी ही ई टिकट के साथ ई पास भी जारी करेगा

शत प्रतिशत यात्रियों ने मुंह पर मास्क लगा रखा था। स्टेशन के प्रवेश द्वार पर ही हैंड सैनेटाइज कराया गया। रेलवे की सलाह के मुताबिक ज्यादातर लोगों ने कम से कम सामान ले रखा था। स्टेशन तक पहुंचने में यात्रियों की परेशानी को देखते हुए रेलवे जल्दी ही ई टिकट के साथ वाहन के नामित ड्राइवर के लिए ई पास भी जारी करेगा।

पहाड़गंज साइड से ही यात्रियों को प्रवेश की अनुमति

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पूर्वनिर्धारित पहाड़गंज साइड से ही यात्रियों को प्रवेश की अनुमति थी। अजमेरीगेट साइड से स्टेशन से टिकट के बाद भी यात्रियों का प्रवेश वर्जित थे। शाम को छूटने वाली ट्रेनों को पकड़ने के लिए स्टेशन पर सुबह 11 बजे से ही लोग पहुंचने लगे थे। स्टेशन में प्रवेश के साथ ही यात्रियों को उनके डिब्बे की ओर पहुंचाया जा रहा था, ताकि प्लेटफार्म पर भीड़ न हो सके। रेलवे के मुताबिक मंगलवार को ही पांच अन्य शहरों मुंबई, हावड़ा, अहमदाबाद, पटना और बंगलुरु से भी राजधानी स्पेशल ट्रेनों का संचालन प्रारंभ हुआ है।

बुधवार को देश के आठ विभिन्न शहरों के लिए ट्रेनें छूटेंगी

रेलवे के जारी टाइम टेबल में 12 मई से 20 मई तक चलने वाली ट्रेनों का ब्यौरा दिया गया है, जिनमें सभी ट्रेनें वातानुकुलित हैं। बुधवार यानी 13 मई को राजधानी दिल्ली से देश के आठ विभिन्न शहरों के लिए ट्रेनें छूटेंगी, जिनमें मुंबई सेंट्रल, हावड़ा, पटना, जम्मूतवी, तिरुअनंतपुरम, चेन्नई, रांची व अहमदाबाद प्रमुख हैं। टाइम टेबल के मुताबिक 16 और 19 मई को कोई ट्रेन नहीं चलेगी। यात्रियों के अपने स्टेशन पर ट्रेन से उतरने के बाद उनके स्वास्थ्य की जांच और अन्य सुविधाओं के बारे में संबंधित राज्य सरकारें बंदोबस्त करेंगी। उन्हें क्वारंटीन करने और उनके घर तक पहुंचाने आदि का इंतजाम के बारे में रेलवे की ओर से कुछ नहीं कहा गया है।

आम दिनों में ऐसा रहता है नई दिल्ली स्टेशन का हाल

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन देश का सबसे व्यस्ततम रेलवे स्टेशन होता है। यहां रोजाना साढ़े तीन सौ से अधिक ट्रेनें दूर देश से आती और जाती है। 5.25 लाख से अधिक मुसाफिर यहां से हर दिन अपने गंतव्य की ओर रवाना होते हैं अथवा पहुंचते हैं। सप्ताह में हर रोज रात दिन चौबीस घंटे यहां भीड़भाड़ रहती है, जो पिछले 50 दिनों से सन्नाटे में डूबा हुआ था। कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते बंद चल रहे इस विशाल स्टेशन परिसर को दुरुस्त करने का मौका मिल गया। स्टेशन के संचालन की खामियों को दूर करने के साथ लाकडाउन के बाद की चुनौतियो से निपटने के लिए इसे तैयार कर दिया गया है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it