Begin typing your search...

वर्क फ्रॉम होम के लालच पड़ सकता है भारी, अब तक 170 लोग ठगी का शिकार

दिल्ली में उत्तर जिला साइबर पुलिस ने वर्क फ्रॉम होम के नाम पर झांसा देकर ठगी में शामिल बीटेक इंजीनियर को गिरफ्तार किया है।

वर्क फ्रॉम होम के लालच पड़ सकता है भारी, अब तक 170 लोग ठगी का शिकार
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

दिल्ली में उत्तर जिला साइबर पुलिस ने वर्क फ्रॉम होम के नाम पर झांसा देकर ठगी में शामिल बीटेक इंजीनियर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी तुषार कुमार को फर्जी कागजों पर सिम मुहैया कराने वाले शख्स अकरम को भी गिरफ्तार किया है। गिरोह ने डेढ़ साल में 170 लोगों से ठगी की है।

डीसीपी सागर सिंह कलसी ने बताया है कि दिल्ली के बुराड़ी निवासी युवती ने साइबर पुलिस पुलिस स्टेशन में शिकायत दी थी। पीड़िता ने बताया था कि उसने फ्रीलांसर डॉट कॉम वेबसाइट के बारे में यूट्यूब पर देखा था। ब्रिटेन की इस कम्पनी पर काम देने वाले और करने वाले दोनों पंजीकृत रहते हैं। पीड़िता ने बताया कि उसने बोली लगाकर सबसे कम कीमत पर काम करने का ठेका हासिल किया। लेकिन काम पूरा होने के बाद आरोपी ने विभिन्न प्रकार के कर एवं शुल्क का हवाला देकर 12 हजार रुपये ले लिए। फिर फोन बंद कर लिया। पुलिस ने आरोपी से नौ फोन, 67 सिम, दो फिंगर आधार बायोमिट्रिक स्कैनर और ठगी की रकम से खरीदी गई कार बरामद की है।

अकरम ने बताया कि जब उसकी दुकान पर कोई सिम लेने आता था तो वह उनके फिंगर प्रिंट लेता था। वह दो बार फिंगर प्रिंट लेकर दो सिम एक्टिव करा लेता था। फिर इसी सिम को इस गिरोह को बेचता था। डीसीपी ने बताया कि जांच टीम ने टेक्निकल सर्विलांस से जांच शुरू की तो मोबइल की लोकेशन उत्तराखंड के किच्छा में पाई गई। फिर 19 मई को 13 वर्षीय तुषार कुमार और 22 मई को मोहम्मद अकरम अली को गिरफ्तार किया गया। डीसीपी ने बताया कि बरेली निवासी अकरम पांच सौ रुपये में पहले से सक्रिय सिम को तुषार को बेचता था।

जांच में मालूम हुआ कि तुषार बरेली के निजी संस्थान से कम्प्यूटर साइंस में बीटेक है। उसने कुछ समय तक रोजगार देने वाली वेबसाइट में नौकरी की, लेकिन कोविड के समय बेरोजगार हो गया। तभी उसे ठगी का उपाय सूझा। उसने अकरम से सिम लिया, जिस पर फर्जी कागजों से केवाईसी करा ई-वालेट खोल लिया। इसके बाद उसने खुद का पंजीकरण वेबसाइट पर काम देने वाली सूची में करा रखा था ताकि शिकार फंसाया जा सके। पुलिस अधिकारी ने बताया कि वेबसाइट पर तुषार के काम को कुछ लोग कम रुपये में करने के लिए बोली लगा देते थे।

फिर तुषार उनसे अन्य नम्बरों से सम्पर्क कर कम समय और रुपये में करने का झांसा दे कुछ रुपये ऐंठ लेता था। काम पूरा होने पर जब पीड़ित मेहनताने के रुपये लेने जाता था तो वह इंकार कर देता था। आरोपी ने बताया कि कोविड के बाद लोग घर से काम करने लगे थे। साथ ही बहुत से लोग बेरोजगार हो गए थे। इसी वजह से उसने यह लोगों से ठगी शुरू की। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी ने मध्य प्रदेश, यूपी, बिहार, झारखंड, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के लोगों से ठगी की है। अब तक 10 लाख रुपये की रकम की ठगी की बात सामने आई है।

Sakshi
Next Story
Share it