Top
Begin typing your search...

कोरोना से जंग लड़ रहे संगीतकार श्रवण राठौर अब इस दुनिया में नहीं रहे

काबिलेगौर हो कि 1990 में राहुल रॉय स्टारर आशिकी से नदीम-श्रवण की जोड़ी को फेम मिला था। उस वक्त इस एल्बम की करीब 2 करोड़ कॉपी बिकी थी।

कोरोना से जंग लड़ रहे संगीतकार श्रवण राठौर अब इस दुनिया में नहीं रहे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नब्बे के दशक की पॉपुलर म्यूजिशियन जोड़ी नदीम-श्रवण के श्रवण कुमार राठौर गंभीर हालत में मुंबई के रहेजा हॉस्पिटल में भर्ती हैं। 67 साल के संगीतकार श्रवण को कुछ दिनों पहले कोविड-19 का टेस्ट पॉजिटिव आया था। इसके बाद अस्पताल में एडमिट कराया गया था।

इस संबंध में श्रवण राठौर के बेटे म्यूजिक कंपोजर संजीव राठौर ने बताया कि कोविड के चलते पापा की कंडीशन बहुत क्रिटिकल है। वे आईसीयू में भर्ती हैं। उनके लंग्स और हॉर्ट में प्रॉब्लम है। लंग्स में पानी भरा है। हॉस्पिटल में भर्ती कराए दो दिन हो गए हैं। लॉकडाउन के कारण काफी दिक्कत हो रही है। डॉक्टर्स ट्रीटमेंट में जुटे हैं। हम परिवार वाले भी हॉस्पिटल में ही हैं। बहुत टेंशन है।

इस वक्त चारों तरफ निगेटिविटी का माहौल है। न जाने कब ईश्वर इस कोविड से सबको मुक्ति दिलाएगा। सभी को संभलकर रहने की जरुरत है। हम सब ठीक हैं। बस दुआ कर रहे हैं कि पापा जल्दी ठीक हो जाएं। हम बस यही चाहते हैं।

आप सभी से भी अपील है कि उनके लिए प्रार्थना कीजिए कि वे जल्दी रिकवर हो जाएं और घर आ जाएं। काबिलेगौर हो कि 1990 में राहुल रॉय स्टारर आशिकी से नदीम-श्रवण की जोड़ी को फेम मिला था। उस वक्त इस एल्बम की करीब 2 करोड़ कॉपी बिकी थी।

नदीम अख्तर शफी और श्रवण कुमार राठौर का एसोसिएशन 1973 में एक फंक्शन में मिलने के बाद बना था। उनका पहला असाइंमेंट भोजपुरी फिल्म दंगल (1975) के लिए था, जिसका सॉन्ग काशी हिले पटना हिले काफी पॉपुलर हुआ था।

हिंदी फिल्म के लिए उन्होंने पहली बार मैंने जीना सीख लिया (1981) में काम किया था। 1985 में दोनों ने मिथुन चक्रवर्ती, जैकी श्रॉफ, अनिल कपूर, सचिन, डैनी, विजेंद्र और सुलक्षणा पंडित समेत 10 स्टार्स के लिए म्यूजिक कंपोज किया और उनके इस कमर्शियल प्रोजेक्ट को स्टार टेन नाम दिया गया।

1997 में गुलशन कुमार मर्डर केस में नदीम का नाम आने के बाद वे यूके चले गए थे और जोड़ी का संगीत फिल्मों में नहीं आ सका। लेकिन 2000 के दशक में दोनों ने ये दिल आशिकाना, राज, कयामत, दिल है तुम्हारा, बेवफा और बरसात जैसी कई फिल्मों के लिए संगीत दिया। 7

नदीम के यूके में रहने के बावजूद श्रवण ने लंबे समय तक जोड़ी के नाम से संगीत बनाया। लेकिन 2005 में आई दोस्ती फेंड्स फॉरएवर के बाद यह जोड़ी टूट गई।

संजय रोकडे पत्रकार

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it