Top
Begin typing your search...

कैंसर का इलाज बीच में छोड़ पत्नी मान्यता के साथ दुबई पहुंचे संजय दत्त, जानें क्या है वजह

संजय दत्त ने मुंबई में ही अपने कैंसर का इलाज शुरू कराया था और पहले राउंड की कीमोथेरेपी हो चुकी है.

कैंसर का इलाज बीच में छोड़ पत्नी मान्यता के साथ दुबई पहुंचे संजय दत्त, जानें क्या है वजह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अभिनेता संजय दत्त का इन दिनों कैंसर का इलाज करा रहे है. संजय दत्त अब मुंबई छोड़ दुबई पहुंच गए हैं. साथ में उनकी पत्नी मान्यता दत्त (Maanayata Dutt) भी गई हैं. संजय दत्त ने मुंबई में ही अपने कैंसर का इलाज शुरू कराया था और पहले राउंड की कीमोथेरेपी हो चुकी है. संजय दत्त के दुबई जाने की वजह उनके बच्चे इकरा और शहरान बताए जा रहे हैं.

इकरा और शहरान दुबई में ही हैं और अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं. कहा जा रहा है कि संजय दत्त का अपने दोनों बच्चों से मिलने का मन हो रहा था, इसलिए वो मान्यता के साथ दुबई पहुंचे गए. रिपोर्ट्स के अनुसार, संजय दत्त 1 हफ्ते या 10 दिनों के भीतर वापस मुंबई लौट आएंगे.

संजय दत्त को हिम्मत दे रहीं मान्यता

जब से संजय दत्त के कैंसर की बात सामने आई है, तब से ही मान्यता दत्ता पॉजिटिविटी की पावर और मुश्किल के समय में मजबूत रहने को लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रही हैं. दुबई से जाने से पहले मान्यता ने अपनी एक पुरानी फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर की, जिसमें उन्होंने डर को लेकर लिखा.

मान्यता ने लिखा- "डर के दो अर्थ हैं- सब कुछ भूल जाओ और भागो या सबका सामना करो और उठो. च्वॉइस आपकी है."

एक हफ्ते पहले मान्यता ने संजय दत्त के लिए एक बहुत ही भावुक पोस्ट लिखा था, जिसमें उन्होंने संजय दत्त से स्ट्रोंग बने रहने को कहा था. संजय दत्त की एक फोटो शेयर करते हुए मान्यता ने लिखा था- हमें अपने जीवन के सबसे अच्छे दिन कमाने के लिए कुछ बुरे दिनों से लड़ना होगा! कभी हिम्मत मत हारना.

अपने एक बयान में मान्यता दत्त ने कहा था कि मैं उन सभी का शुक्रिया अदा करती हूं, जिन्होंने संजय के जल्द ठीक होने की दुआ की है. हमें इस समय से गुजरने के लिए हिम्मत और दुआओं की जरूरत है. हमारा परिवार पहले ही बहुत सी मुश्किलों से गुजर चुका है, लेकिन मुझे यकीन है कि यह समय भी गुजर जाएगा.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it