Begin typing your search...

हरियाणा के मेवात की रोहिंग्या बस्तियों में पुलिस की ताबड़तोड़ छापेमारी

Police raids, Rohingya, settlements , Mewat, Haryana
X

Police raids, Rohingya, settlements , Mewat, Haryana

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

हरियाणा के मेवात जिले के नूंह में ट्रक से कुचलकर डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई की मौत के बाद पूरे जिले में तलाशी अभियान जारी है। इसी सिलसिले में हरियाणा पुलिस ने मंगलवार (26 जुलाई 2022) को नूंह में रोहिंग्या मुसलमानों की मलिन बस्तियों में तलाशी अभियान चलाया। पुलिस ने 30 वाहनों को सीज किया है। इनमें 11 रिक्शा और 17 बाइक शामिल हैं।

नूंह के एसपी वरुण सिंगला ने कहा, "हमारे पास रोहिंग्याओं का पूरा डेटाबेस है और हमने उनके शिविरों में एक विशेष तलाशी अभियान चलाया है। हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि कोई भी गलत तत्व इन शिविरों में शरण नहीं ले रहा है। हमारी छापेमारी अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए जारी रहेगी, विशेष रूप से जिले में अवैध खनन में शामिल तत्व।" एसपी ने आगे कहा कि पुलिस टीम ने अब तक 33 गांवों में तलाशी अभियान चलाया है और 361 संदिग्ध वाहनों को जब्त किया है। रोहिंग्या मुसलमानों के पास इन वाहनों के दस्तावेज नहीं थे, इसलिए, उन्हें जब्त कर लिया गया है।

एसपी ने आगे कहा कि अगर कोई रोहिंग्या वाहन के वैध दस्तावेज के साथ पुलिस विभाग में आता है और दस्तावेज सही पाए जाते हैं तो उसे छोड़ दिया जाएगा, अन्यथा उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पुलिस के अनुसार, पिछले कई महीनों से कुल 1,771 रोहिंग्या मुसलमान नूंह, शाहपुर नंगली, पुन्हाना, चांदनी और फिरोजपुर में स्थित रोहिंग्या शिविरों में रह रहे हैं। 26 जुलाई को इन जगहों पर तलाशी अभियान चलाया गया था।

19 जुलाई 2022 को हरियाणा के नूंह में खनन माफियाओं ने डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई की डंपर से कुचलकर हत्या कर दी थी। घटना तब हुई जब पुलिस नूंह के पचगांव की पहाड़ियों में अवैध खनन माफियाओं को गिरफ्तार करने पहुंची। डीएसपी इसी साल सेवानिवृत्त होने वाले थे। खनन माफियाओं के इतिहास में इसे जिले की अब तक की सबसे बड़ी घटना माना जा रहा है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it