Begin typing your search...

सोनीपत में दर्दनाक हादसा, स्कूल की छत गिरने से बड़ा हादसा, 25 बच्चे गंभीर रूप से जख्मी

हादसे की खबर मिलते ही गन्नौर पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस की टीम ने इस हादसे की जांच शुरू कर दी है.

सोनीपत में दर्दनाक हादसा, स्कूल की छत गिरने से बड़ा हादसा, 25 बच्चे गंभीर रूप से जख्मी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

हरियाणा के सोनीपत में बड़ा हादसा हुआ है. गन्नौर में एक स्कूल की छत गिरने से करीब 25 स्टूडेंट्स गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. दिल हदला देने वाली ये घटना सोनीपत के गांव बाय रोड पर मौजूद जीवानंद स्कूल में हुई है. करीब 25 स्टूडेंट्स को काफी चोटें आई हैं. जिनमें 5 स्टूडेंट्स की हालत गंभीर है. उन्हें इलाज के लिए रोहतक पीजीआई में रेफर कर दिया गया है. वहीं बाकी के स्टूडेंट्स (School Students Injured) का इलाज गन्नौर सामुदायिक हॉस्पिटल में चल रहा है. स्कूल की छत गिरने की वजह से 3 मजदूर भी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं.

हादसे की खबर मिलते ही गन्नौर पुलिस (Haryana Police) मौके पर पहुंच गई. पुलिस की टीम ने इस हादसे की जांच शुरू कर दी है. जैसे ही स्कूल की छत गिरी, वैसे ही घायल बच्चों को तुरंत गन्नौर सामुदायिक केंद्र में भर्ती कराया गया. लेकिन 5 स्टूडेंट्स की हालत गंभीर होने की वजह से उन्हें रोहतक पीजीआई में रेफर कर दिया गया. मरम्मत के दौरान गिर गई स्कूल की छत बताया जा रहा है कि जीवानंद स्कूल की छत इतनी तेज गिरी कि आसपास के इलाके में आवाज गूंज गई. बताया जा रहा है कि स्कूल में मरम्मत का काम चल रहा था. तीसरी क्लास की कच्ची छत पर मिट्टी डाली जा रही थी.

तभी अचानक से छत गिर गई. इस हादसे में क्लास रूम में मौजूद बच्चे मलबे में दब गए. वहीं 3 मजदूर भी नीचे गिरने की वजह से घायल हो गए. इस घटना से आसपास के इलाके में हड़कंप मच गया. सभी को आनन फानन में सीएचसी में भर्ती कराया गया. लेकिन 5 बच्चों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें पीजीआई में रेफर कर दिया गया. अचानक हुए इस हादसे से इलाके में हड़कंप मचा हुआ है.

वहीं बच्चों के परिवारों का रो-रोकर बुरा हाल है. पुलिस अब ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर मरम्मत के दौरान छत गिर कैसे गई. कुछ बच्चों का इलाज सामुदायिक केंद्र में चल रहा है,. वहीं गंभीर बच्चों का इलाज पीजीआई में जारी है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it