Top
Begin typing your search...

कोविशील्ड-कोवैक्सीन या स्पुतनिक-V, आपको दी जा रही वैक्सीन असली है या फिर नकली, केंद्र ने बताया कैसे करें पहचान

कोविशील्ड-कोवैक्सीन या स्पुतनिक-V, आपको दी जा रही वैक्सीन असली है या फिर नकली, केंद्र ने बताया कैसे करें पहचान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने के लिए दुनिया भर में ज्यादा-से-ज्यादा टीकाकरण किया जा रहा है। हालांकि, इस बीच ऐसी भी खबरें आईं कि कई जगह फर्जी टीके लगाए जा रहे हैं। ऐसे में केंद्र ने राज्यों को एक असली वैक्सीन की पहचान के लिए सभी जरूरी जानकारी दी है।

इस संबंध में सभी राज्यों को शनिवार को पत्र लिखा है। इस चिट्ठी में राज्यों को कोवैक्सीन, कोविशील्ड और स्पूतनिक-वी टीकों से जुड़ी हर जानकारी बताई है, जिसे देखकर पहचान की जा सकती है कि वैक्सीन असली है या नकली। इसमें अंतर पहचानने के लिए कोविशील्ड, कोवैक्सिन और स्पूतनिक-वी तीनों वैक्सीन पर लेबल, उसके कलर, ब्रांड का नाम क्या होता है, इन सब की जानकारी साझा की गई है। फिलहाल देश में इन्हीं तीन टीकों से टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है।।

कोविशील्ड

-SII का प्रोडक्ट लेबल, लेबल का रंग गहरे हरे रंग में होगा।

- ब्रांड का नाम ट्रेड मार्क के साथ (COVISHIELD)।

- जेनेरिक नाम का टेक्स्ट फॉन्ट बोल्ड अक्षरों में नहीं होगा।

- इसके ऊपर CGS NOT FOR SALE ओवरप्रिंट होगा।

कोवैक्सीन

- लेबल पर इनविजिबल यानी अदृश्य UV हेलिक्स, जिसे सिर्फ यूवी लाइट में ही देखा जा सकता है।

-लेबल क्लेम डॉट्स के बीच छोटे अक्षरों में छिपा टेक्स्ट, जिसमें COVAXIN लिखा है।

-कोवैक्सिन में 'X' का दो रंगों में होना, इसे ग्रीन फॉयल इफेक्ट कहा जाता है।

स्पूतनिक-वी

-चूंकि स्पूतनिक-वी वैक्सीन रूस की दो अलग प्लांटों से आयात की गई है, इसलिए इन दोनों के लेबल भी कुछ अलग-अलग हैं। हालांकि, सभी जानकारी और डिजाइन एक सा ही है, बस मैन्युफेक्चरर का नाम अलग है।

-अभी तक जितनी भी वैक्सीन आयात की गई हैं, उनमें से सिर्फ 5 एमपूल के पैकेट पर ही इंग्लिश में लेबल लिखा है। इसके अलावा बाकी पैकेटों में यह रूसी में लिखा है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it