Top
Begin typing your search...

बहुत ही फायदेमंद है जामुन का फल? लेकिन कभी भी इसे खाली पेट नहीं खाये, जानें इससे जुड़ी और भी बातें

आम का मौसम शुरु होते ही जामुन भी बाजार में आने लगता है। जामुन में विटामिन बी और आयरन पर्याप्त मात्रा में होता है। इसके सेवन से कैंसर, मुंह के छाले और गर्मियों के मौसम में लू लगने पर फायदा मिलता है।

बहुत ही फायदेमंद है जामुन का फल? लेकिन कभी भी इसे खाली पेट नहीं खाये, जानें इससे जुड़ी और भी बातें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जामुन को देखते ही अमूनन लोगों के मुंह में पानी आ जाता है। जामुन दिखने में जितना सुन्दर लगता है खाने में उससे कही अधिक स्वादिष्ट भी होता है। आपने अभी तक जामुन का इस्तेमाल केवल एक खाद्य फल के रूप में ही किया होगा लेकिन आपको बता दें की आपका पसंदीदा जामुन एक गुणकारी औषधि भी है जो आपको फिट और हेल्दी रखने में मदद करता है।

ये ऐसा फल है जो गर्मियों के मौसम में खूब मिलता भी है। आम का मौसम शुरु होते ही जामुन भी बाजार में आने लगता है। जामुन में विटामिन बी और आयरन पर्याप्त मात्रा में होता है। इसके सेवन से कैंसर, मुंह के छाले और गर्मियों के मौसम में लू लगने पर फायदा मिलता है। आज हम आपको जामुन के फायदे में बताने वाले हैं. काले-काले जामुन को गर्मियों में खूब खाया और पसंद किया जाता है. लेकिन क्या आपको पता है कि ये काला रंग का छोटा सा फल भी बहुत सी गंभीर बीमारियों को चुटकी में खत्म कर सकता है.

-पेट में मरोड़, ऐठन और खाना न पचने की समस्या को दूर करने के लिए जामुन का सेवन करें। वहीं लिवर की समस्या होने पर जामुन का रस पीना चाहिए। -इसमें कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। जामुन में कैल्शियम पोटेशियम, आयरन, विटामिन होता है।

-त्वचा का रंग निखारने में जामुन मदद करता है। इसके सेवन से कील मुंहासों की समस्या से निजात पाया जा सकता है। रोजाना जामुन खाने से डायबिटीज के मरीजों को फायदा होता है। ये शुगर की मात्रा को नियंत्रित करता है। डायबिटीज में होने वाली समस्याओं से भी निजात दिलाता है।

-अगर बच्चा बिस्तर गीला करता है तो जामुन की गुठली को पीसकर आधा-आधा चम्मच दिन में दो बार पानी के साथ देने से काफी लाभ मिलता है. इसके अलावा यदि बच्चे को बोलने में दिक्कत हो रही हो तो जामुन की गुठली के काढे़ से कुल्ला कीजिए. इससे आवाज स्पष्ट होती है. मुंहासे होने पर जामुन की गुठलियों को सुखाकर पीस लीजिए. इस पाउडर में गाय का दूध मिलाकर रात को सोते समय चेहरे पर लगाइए और सुबह मुंह ठंडे पानी से धो लीजिए. इससे काफी लाभ मिलता है.

-दि पथरी की समस्या है तो जामुन की गुठली के चूर्ण को दही के साथ मिलाकर खाने से पथरी में फायदा होता है. पथरी की रोकथाम में भी जामुन खाना फायदेमंद होता है. इसके बीज को बारीक पीसकर पानी या दही के साथ लेना चाहिए. दांतों और मसूड़ों के बेहतर सेहत के लिए भी जामुन की गुठलियां काफी फायदेमंद होती हैं. जामुन की गुठलियों में कैल्शियम होता है. इसके सेवन से दांत और मसूड़े मजबूत बने रहते हैं.

ध्यान रहे कि अधिक मात्रा में जामुन खाने से शरीर में जकड़न और बुखार होने की संभावना भी रहती है. इसे कभी खाली पेट नहीं खाना चाहिए और ना ही इसे खाने के बाद दूध पीना चाहिए.

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it