Top
Begin typing your search...

एम्स में गंदा मास्क पहनने वाले मरीजों पर हुआ शोध, हैरान कर देने वाले परिणाम सामने आये

''कपड़े वाले गंदे मास्क का कई बार और देर तक इस्तेमाल करने से म्यूकोरमाइकोसिस का खतरा अधिक हो सकता है

एम्स में गंदा मास्क पहनने वाले मरीजों पर हुआ शोध, हैरान कर देने वाले परिणाम सामने आये
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोरोना से बचाव के लिए मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना और वैक्सीनेशन कराना बेहद अहम चीजें मानी जा रही है। लेकिन कोरोना वायरस के मरीजों में ब्लैक फंगस के मामलों में हो रही बढ़ोतरी के पीछे मास्क में नमी का होना या गंदगी का होना भी माना जा रहा है। एम्स के 352 मरीजों पर हुए ताजा शोध में सामने आया है कि लंबे समय तक कपड़े का मास्क पहनने से गंदगी की वजह से ब्लैक फंगस होने की आशंका अधिक हो जाती है, इसलिए इसे इतने अधिक समय तक पहनने से बचना चाहिए। खासकर ऐसे मरीज जिनकी प्रतिरोध क्षमता कम है उन्हें अधिक सावधान रहने की जरूरत है।

अध्ययन में 152 मरीज ऐसे थे जो कोरोना के साथ ब्लैक फंगस से भी पीड़ित थे, जबकि 200 मरीज ऐसे थे जो सिर्फ कोरोना से संक्रमित थे। शोध के मुताबिक, ब्लैक फंगस से पीड़ित मिले सिर्फ 18 फीसदी मरीजों ने ही एन 95 मास्क का इस्तेमाल किया था। वहीं करीब 43 फीसदी ऐसे मरीजों ने एन 95 मास्क का इस्तेमाल किया था जिन्हें ब्लैक फंगस का संक्रमण नहीं था।

ब्लैक फंगस से पीड़ित 71.2 फीसदी मरीजों ने या तो सर्जिकल या कपड़े के मास्क का इस्तेमाल किया था। इनमें भी 52 फीसदी मरीज कपड़े वाले मास्क का इस्तेमाल कर रहे थे। 10.7 फीसदी मरीजों ने किसी भी मास्क का इस्तेमाल नहीं किया था। जिन कोरोना मरीजों को ब्लैक फंगस नहीं हुआ था उनमें से 42.5 फीसदी मरीजों ने एन 95 और 14.5 फीसदी ने सर्जिकल मास्क का प्रयोग किया था। शोध में पता चला कि गैर ब्लैक फंगस श्रेणी में 36 फीसदी ने कपड़े के मास्क और 7 फीसदी ने किसी मास्क का इस्तेमाल नहीं किया था।

''कपड़े वाले गंदे मास्क का कई बार और देर तक इस्तेमाल करने से म्यूकोरमाइकोसिस का खतरा अधिक हो सकता है। जरूरी हो तो कपड़े के मास्क के नीचे सर्जिकल मास्क पहनें और 6 घंटे के अंदर सर्जिकल मास्क को भी बदल दें या कपड़े के मास्क को साफ कर पहनें।'' -डॉक्टर नीरज निश्चल, एम्स मेडिसिन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर और सहलेखक

ब्लैक फंगस के 92 फीसदी मामले ऐसे कोरोना मरीजों में मिले, जिन्हें पहले डायबिटीज था। वहीं गैर म्यूकोरमायोसिस कटैगरी में केवल 28 फीसदी को डायबिटीज था। 66 फीसदी ब्लैक फंगस के मरीजों को कोविड इलाज के दौरान स्टेरॉयड दिया गया था। वहीं गैर ब्लैक फंगस वाले मरीजों की संख्या 48 फीसदी रही।

ब्लैक फंगस क्या है?

ब्लैक फंगस का मेडिकल नाम म्यूकॉरमायकोसिस है। जो कि एक दुर्लभ व खतरनाक फंगल संक्रमण है। ब्लैक फंगस इंफेक्शन वातावरण, मिट्टी जैसी जगहों में मौजूद म्यूकॉर्मिसेट्स नामक सूक्ष्मजीवों की चपेट में आने से होता है। इन सूक्ष्मजीवों के सांस द्वारा अंदर लेने या स्किन कॉन्टैक्ट में आने की आशंका होती है। यह संक्रमण अक्सर शरीर में साइनस, फेफड़े, त्वचा और दिमाग पर हमला करता है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it