Begin typing your search...

पेरेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रमुख राष्ट्रीय प्रवक्ता बने डॉ राजाराम त्रिपाठी, शिक्षा के गिरते स्तर पर उठाये सवाल

डॉ राजाराम त्रिपाठी को सर्वसम्मति से संगठन का "मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता" (National Chief Spokes Person) बनाए जाने की घोषणा की गई।

पेरेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रमुख राष्ट्रीय प्रवक्ता बने डॉ राजाराम त्रिपाठी, शिक्षा के गिरते स्तर पर उठाये सवाल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पेरेंट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया "पाई" की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक रविवार को होटल रैडिसन दिल्ली में संगठन प्रमुख ,अध्यक्ष एस डी शर्मा की अध्यक्षता में संपन्न हुई, जिसमें देश के अभिभावकों के हित में कई निर्णय लिए गए। बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष एस डी शर्मा ने कहा सारे प्रदेशों में संघठन की समीक्षा करके जल्द ही संघठन में बड़ा फेरबदल किया जायेगा। इसी तारतम्य में पहल करते हुए संगठन को गति देने तथा इसे राष्ट्रव्यापी मिशन बनाने के दृष्टिकोण से देश के हालिया सफल किसान आंदोलन सहित कई मूवमेंट्स के कुशल नेतृत्व के लिए जाने जाने वाले डॉ राजाराम त्रिपाठी को सर्वसम्मति से संगठन का "मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता" (National Chief Spokes Person) बनाए जाने की घोषणा की गई।

इसके साथ ही उनकी टीम को प्रादेशिक तथा राष्ट्रीय स्तर और अधिक मजबूती तथा धार प्रदान करने हेतु मनोज पंडित जी तथा अनिरुद्ध शर्मा (National Spokes Person) को "राष्ट्रीय प्रवक्ता" नामित किया गया है। संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एसडी शर्मा ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में शिक्षा का स्तर दिनों दिन गिरता जा रहा है। भारतीय अभिभावक महासंघ निजी स्कूलों की दिनों दिन बढ़ती फीस, स्कूल तथा ड्रेस की मनमानी कीमत से बुरी तरह से त्रस्त है । राष्ट्रीय महासचिव डॉ सुनील कौशिक ने कहा कि जिन हालातों की ओर राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने इशारा किया है उन हालातों के समाधान के लिये जल्द ही किसी रिटायर्ड न्यायधीश की अध्यक्षता में एक ड्राफ्ट कमैटी का गठन किया जाएगा. जो भी कमैटी की सिफारिश होगी उसको एक बड़े आंदोलन के साथ बदलाव के लिये सरकार के समक्ष रखा जायेगा ।


संस्थान के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष शिवकुमार मिश्र ने कहा कि दिनों दिन बढ़ती स्कूलों की फीस तथा स्कूल ड्रेस तथा किताबों की मनमानी कीमतों के कारण आज मजदूर , रिक्शावाले, फेरीवाले जैसे गरीब तबके के अभिभावक तथा मध्यम आय वर्ग के समस्त आम नागरिक अपने बच्चों को पढ़ाने में असमर्थ महसूस रहे हैं। डॉ राजाराम त्रिपाठी ने अपने प्रथम वक्तव्य में जोर देकर कहा कि आज वर्तमान में निजी स्कूलों की मनमानी से बच्चे तथा उनके अभिभावक ही नहीं बल्कि वहां के शिक्षक भी त्रस्त हैं। एसोसिएशन को सरकार के साथ मिलकर मुख्य मुद्दों पर

क्षेत्रीय, राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर के पेरेंट्स संगठनों, टीचर्स संगठनों से चर्चा करके समुचित समाधान निकलना होगा. ताकि हम सब मिलकर वो एक माहौल दे सकें जिससे स्वयं अपने आप सरकार,पेरेंट्स व अध्यापकों को जिम्मेदारी का एहसास हो. कार्यक्रम में संस्थान के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अजय अरोरा ,एड. प्रमोद कुमार, नवनीत राना ,ओपी रात्रा ,राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज पंडित अनिरुद्ध शर्मा ,राष्ट्रीय सह सचिव विशवेन्द्र कुमार ,एड. ललित चाहर , कीर्ति राठी सिकारिया ,स्वदेश कुमार ,गौतम पंडित ,राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य डॉ.मनीष शर्मा ,रामकुमार शर्मा ,कविता मिश्रा , इन्द्रेश शर्मा,एड. अनिरुद्ध कुश शर्मा ,नकुल अत्री ने भी संबोधित करते हुए अपने विचार तथा सार्थक सुझाव रखे, जिन्हें सर्वसम्मति से पारित किया गया।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it