Begin typing your search...

साढ़े छह साल बाद जेल से जमानत पर बाहर आई इंद्राणी मुखर्जी, बोलीं- 'खुला आसमान दिखा, मैं बहुत खुश हूं'

सुप्रीम कोर्ट ने जमानत राशि 2 लाख रुपए तय की और कहा कि इंद्राणी को दो सप्ताह के भीतर राशि जमा करनी होगी।

साढ़े छह साल बाद जेल से जमानत पर बाहर आई इंद्राणी मुखर्जी, बोलीं- खुला आसमान दिखा, मैं बहुत खुश हूं
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

देश के सबसे चर्चित मर्डर मिस्‍ट्री शीना बोरा (Sheena Bora) हत्‍याकांड की मुख्‍य आरोपी इंद्राणी मुखर्जी (Indrani mukherjea) शुक्रवार को भायखला जेल से बाहर आ गईं। बुधवार को उन्हें सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी थी। जेल से बाहर आने के बाद इंद्राणी ने कहा कि वे बहुत अच्छा महसूस कर रही हैं। आगे उनकी क्या योजना है, इस पर उन्होंने कहा कि इस बारे में कुछ सोचा नहीं है। इंद्राणी मुखर्जी ने कहा, खुला आसमान दिखा। बहुत खुश हूं। इंद्राणी को बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई थी। वे साढ़े छह साल से जेल में बंद थीं।

शीना बोरा हत्याकांड एक ऐसा हत्याकांड था, जिसमें जानी-मानी हस्ती इंद्राणी मुखर्जी और उनके पति रहे पीटर मुखर्जी का नाम सामने आया था। इस हत्याकांड में रिश्तों का पेंच बराबर सामने आते रहा। जिसमें धोखा, झूठ से पैदा हुआ नाजायज रिश्ता और फरेब, उस रिश्ते को छिपाने के लिए हुआ एक कत्ल था।

सुप्रीम कोर्ट ने जमानत राशि 2 लाख रुपए तय की और कहा कि इंद्राणी को दो सप्ताह के भीतर राशि जमा करनी होगी। इंद्राणी मुखर्जी पिछली शादी से अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी हैं। शीना का 2012 में कथित तौर पर अपहरण कर हत्या कर दी गई थी और उसके शरीर को मुंबई के बाहरी इलाके में एक गड्ढे में छोड़ दिया गया था।


इंद्राणी मुखर्जी के पूर्व पति और मीडिया कारोबारी पीटर मुखर्जी भी दो अन्य लोगों के साथ इस मामले में आरोपी थे। पीटर मुखर्जी भी इस मामले में जेल की सजा काट चुके हैं। इंद्राणी और पीटर ने 2007 में आईएनएक्स नेटवर्क स्थापित किया था, लेकिन दो साल बाद गबन के आरोपों के बीच अपनी हिस्सेदारी बेच दी। प्रवर्तन निदेशक ने आरोप लगाया था कि 2008 में कार्ति चिदंबरम ने पति और पत्नी को उनके उद्यम में करोड़ों के विदेशी निवेश के लिए मंजूरी दिलाने में मदद की, जिसके लिए उन्हें कथित रूप से रिश्वत भी मिली। मामले की अभी जांच की जा रही है।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it