Begin typing your search...

Nepal Plane Crash: बेटा पैदा होने की मन्नत हुई पूरी तो पशुपतिनाथ दर्शन करने गया था सोनू, चली गई जान

2 बेटियों के बाद बेटा हुआ तो पशुपति नाथ दर्शन करने गया था सोनू जायसवाल, सोनू के साथ उसके 3 दोस्त भी गए थे। सबकी चली गई जान

Nepal Plane Crash: बेटा पैदा होने की मन्नत हुई पूरी तो पशुपतिनाथ दर्शन करने गया था सोनू, चली गई जान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

भारत के पड़ोसी देश नेपाल में रविवार को दर्दनाक हादसा हुआ और लैंडिंग से सिर्फ 10 सेकेंड पहले ही प्लैन क्रैश हो गया. हादसे में विमान में सवार सभी 72 लोगों की मौत हो गई. विमान दुर्घटना में मारे गए लोगों में सोनू जायसवाल नाम का भी एक शख्स था, जो हाल ही में पुत्र प्राप्ति की मन्नत पूरी होने के बाद काठमांडू के पशुपतिनाथ मंदिर में मत्था टेकने गया था. परिवार के सदस्यों ने जानकारी देते हुए बताया कि मृतकों में सोनू के तीन अन्य दोस्त अभिषेक कुशवाहा (25), विशाल शर्मा (22) और अनिल कुमार राजभर (27) भी शामिल थे।

बेटा होने की खुशी में गया था पशुपतिनाथ

सोनू के रिश्तेदार विजय जायसवाल ने बताया कि 35 साल के सोनू जायसवाल की पहले से दो बेटियां थीं और उसने भगवान पशुपतिनाथ से मन्नत मांगी थी कि अगर बेटा होता तो मंदिर जाएगा. छह महीने पहले ही सोनू को बेटा हुआ, जिसके बाद वह अपनी मन्नत पूरा करने के लिए अपने तीन दोस्तों के साथ 10 जनवरी को नेपाल गया था. सोनू का एकमात्र मकसद भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन करना था, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।

इंजन में आ गई थी खराबी

मीडिया के अनुसार , विमान के इंजन में अचानक खराबी आ गई थी, जिसके बाद लैंडिंग से पहले ही विमान में आग लग गई. क्रैश की साइट एक नदी के पास बताई जा रही है. बताया गया है कि शायद प्लेन पहाड़ी से टकरा गया हो. खास बात है कि विमान के पायलट ने पहले पूर्व के तरफ से लैंडिंग की परमिशन मांगी थी और परमिशन मिली भी थी, लेकिन थोड़ी देर में पायलट ने पश्चिम दिशा की तरफ से लैंडिंग की परमिशन मांगी और दुबारा भी परमिशन मिल गई थी.

हादसे के बाद नेपाल के सिविल एविएशन अथॉरिटी ने प्रेस रिलीज जारी की. प्रेस रिलीज के मुताबिक 10:32 मिनट पर यति एयरलाइन के इस विमान ने उड़ान भरी. उड़ान भरते वक्त प्लेन में 72 लोग सवार थे, जिसमें 4 क्रू मेंबर भी शामिल थे. प्लेन ने 10 बजकर 50 मिनट पर पोखरा टावर से संपर्क किया और ठीक इसी के बाद प्लेन क्रैश हो गया।

Satyapal Singh Kaushik
Next Story
Share it