Begin typing your search...

J&K : राहुल भट्ट की पत्नी को मिलेगी सरकारी नौकरी, बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार, SIT गठित

राहुल भट्ट की हत्या की जांच के लिए जम्मू कश्मीर सरकार ने एसआईटी का गठन किया है।

J&K : राहुल भट्ट की पत्नी को मिलेगी सरकारी नौकरी, बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाएगी सरकार, SIT गठित
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की पत्नी को सरकार ने सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है. राहुल भट की बेटी की पढ़ाई का खर्च भी सरकार वहन करेगी. वहीँ राहुल भट्ट की हत्या की जांच के लिए जम्मू कश्मीर सरकार ने एसआईटी का गठन किया है. आपको बता दें कि राहुल भट की हत्या को लेकर उनके परिवारवालों ने हत्या को साजिश करार देकर जांच की मांग की थी. मालूम हो कि बडगाम जिले की चडूरा तहसील में राजस्व अधिकारी के पद पर कार्यरत राहुल भट्ट की आतंकियों ने गुरुवार को दफ्तर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी.

सेना ने 24 घंटे में लिया बदला

सेना ने 24 घंटे के अंदर कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या बदला ले लिया है. आपको बता दें सुरक्षाबलों ने राहुल भट्ट की पत्नी मीनाक्षी से दो दिन के अंदर आतंकियों को मार गिराने का वादा किया था. सेना ने 24 घंटे के अंदर अपना वादा पूरा कर दिया. सूत्रों के हवाले से सूचना मिली है कि उन्होंने बांदीपोरा में शुक्रवार शाम को तीन आतंकियों को मार गिराया. इनमें मारे गए दो आतंकी राहुल भट्ट की हत्या में शामिल थे. मारे गए दोनों आतंकियों की पहचान फैसल और सिकंदर के रूप में हुई है. दोनों ही पाकिस्तानी है. इनमें तीसरा आतंकी गुलजार अहमद है, जिसकी पहचान 11 मई को की गई थी.

350 कश्मीरी पंडितों का सरकारी पदों से इस्तीफा

उधर, कश्मीरी पंडितों में लगातार निशाना बनाकर हो रहे हमलों से खौफ फैल गया है. इस टारगेट किलिंग के विरोध में 350 सरकारी कर्मचारियों ने एक साथ इस्तीफा दे दिया है. कर्मचारियों ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को अपने इस्तीफे भेज दिए हैं. सभी कश्मीरी पंडित प्रधानमंत्री पैकेज के कर्मचारी हैं.

गुरुवार को आतंकियों ने बड़गाम जिले के चडूरा तहसील ऑफिस में घुसकर क्लर्क राहुल को शूट कर दिया था. इसके बाद राहुल ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। घटना के बाद से ही इलाके में सर्च ऑपरेशन चल रहा था.

बांदीपोरा में 10 मई से पहले 30 अप्रैल को भी तीन आतंकियों की लोकेशन ट्रैक हुई थी. इनमें से दो पाकिस्तानी आतंकी थे. दोनों पाकिस्तानी आतंकी उर्दू बोलने वाले हैं. इनके साथ एक स्थानीय आतंकी भी था. दो पाकिस्तानियों के साथ ट्रैक हुआ तीसरा आतंकी स्थानीय भाषा बोल रहा था.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it