Top
Begin typing your search...

जम्मू-कश्मीर में बना गठबंधन देश विरोधी नहीं, भाजपा के विरोध में है: फारूक अबदुल्ला

जम्मू-कश्मीर में छह राजनीतिक दलों ने मिलकर एक दल बनाया है

जम्मू-कश्मीर में बना गठबंधन देश विरोधी नहीं, भाजपा के विरोध में है: फारूक अबदुल्ला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जम्मू-कश्मीर में छह राजनीतिक दलों ने मिलकर एक दल बनाया है। दल के सदस्यों ने नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष के रूप में फारूक अब्दुल्ला को चुना है और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती के रूप में चुना गया है। असल में ये राजनीतिक दलों का एक समूह है जो जम्मू-कश्मीर से हटाए गए विशेष दर्ज की तत्काली बहाली की मांग कर रहा है। यह निर्णय श्रीनगर के पॉश गुप्कर रोड में मुफ्ती के फेयरव्यू निवास में आयोजित एक बैठक में लिया गया। बैठक में सभी छह दलों - नेकां, पीडीपी, पीपल्स कॉन्फ्रेंस (पीसी), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-मार्क्सवादी (सीपीआई-एम), पीपुल्स मूवमेंट (पीएम) और अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस (एएनसी) के नेता उपस्थित थे।

अब्दुल्ला ने कहा कि गुप्कर घोषणा या पीएजीडी के लिए पीपुल्स अलायंस का समूहन, एक राष्ट्र-विरोधी गठबंधन नहीं था, लेकिन निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का विरोधी था। उन्होंने कहा, "मैं आपको बताना चाहता हूं कि यह भाजपा ये गलत प्रचार कर रही है कि PAGD राष्ट्रविरोधी है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह भाजपा विरोधी है, लेकिन यह देश विरोधी नहीं है।" अब्दुल्ला ने कहा कि ये लड़ाई धार्मिक नहीं है ये उनकी पहचान और अधिकारों के लिए है।

वो कहते हैं, "उन्होंने (भाजपा ने) संविधान को नष्ट करने और देश को विभाजित करने का प्रयास किया है। हमने देखा है कि उन्होंने पिछले साल 5 अगस्त को भारत के संविधान का क्या किया था। हमारा उद्देश्य जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के लोगों के अधिकारों के लिए लड़ना है। हम जम्मू और लद्दाख क्षेत्रों की क्षेत्रीय स्वायत्तता के लिए भी लड़ेंगे।"

5 अगस्त, 2019 को, केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया, जिसने जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा दिया, और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित किया - जम्मू-कश्मीर और लद्दाख. तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों - मुफ्ती, अब्दुल्ला और उनके बेटे, उमर अब्दुल्ला सहित कई राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं को कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए हिरासत में ले लिया गया था। अब्दुल्ला मार्च में रिहा कर दिए गए, और मुफ्ती को अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में मुक्त किया गया। इसी के बाद से सभी नेता एक साथ मिलर सामने आए हैं और विशेष दर्जे की बहाली के लिए लगातार काम कर रहे हैं। समूह की पहली बैठक 15 अक्टूबर को अब्दुल्ला के गुप्कर निवास में आयोजित की गई थी।

शनिवार की बैठक में, पीसी चेयरपर्सन सज्जाद लोन को गठबंधन के प्रवक्ता के रूप में नामित किया गया था। सीपीआई-एम के महासचिव मोहम्मद यूसुफ तारिगामी इसके संयोजक और एनसीटीएस समन्वयक के अनंतनाग सांसद हसनैन मसूदी होंगे। गठबंधन के सदस्यों ने कहा कि वे जम्मू-कश्मीर के लोगों के बारे में फैले "झूठ" को उजागर करने के लिए एक महीने के भीतर एक श्वेत पत्र के साथ आएंगे। लोन ने कहा, झूठ और गलतफहमी को उजागर करने के लिए लोगों और देश के सामने इसे (श्वेत पत्र) रखा जाएगा; यह आंकड़ों के साथ जम्मू-कश्मीर की वास्तविकता को उजागर करेगा। ये दस्तावेज़ लोगों के लिए एक श्रद्धांजलि होगी।" उन्होंने कहा कि गठबंधन की अगली सभा जम्मू में दो सप्ताह के भीतर होगी और नवंबर में श्रीनगर में इसका पहला अधिवेशन होगा।

भाजपा प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर ने कहा कि समूह सफल नहीं होगा। "इन लोगों ने 70 वर्षों तक जम्मू-कश्मीर पर शासन किया है। अब जब वे सत्ता से बाहर हैं, तो परिवार फिर से सत्ता हथियाने के लिए एकजुट हुए हैं। यह शक्तिशाली लोगों का एक VVIP गठबंधन है जो काम नहीं करेगा। " एक राजनीतिक विश्लेषक और कश्मीर विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान विभाग के पूर्व प्रमुख नूर बाबा ने कहा कि नए गठबंधन के नेता एक मान्यता प्राप्त और महत्वपूर्ण आवाज हैं।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it