Begin typing your search...

'मुसलमानों को शांति और सम्मान से जीने दो', कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने किया आह्वान

कर्नाटक (Karnataka) के बैंगलुरु (Bengaluru) में हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीच लगातार होती झड़प की घटनाओं को लेकर कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने अपनी प्रतक्रिया दी है...

मुसलमानों को शांति और सम्मान से जीने दो, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने किया आह्वान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कर्नाटक (Karnataka) के बैंगलुरु (Bengaluru) में हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीच लगातार होती झड़प की घटनाओं को लेकर कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने अपनी प्रतक्रिया दी है। बता दें कि बी.एस. येदियुरप्पा ने मुस्लिम स्वामित्व वाले व्यवसायों को निशाना बनाते हुए हिंदू संगठनों के अभियान की आलोचना की है। बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा है कि 'मुसलमानों को शांति और सम्मान से जीने दो।'

बता दें कि बी.एस. येदियुरप्पा यह बयान धारवाड़ में श्री राम सेना के चार कथित सदस्यों द्वारा मुस्लिम समुदाय से जुड़ी फलों की गाड़ियों में तोड़फोड़ करने और गिरफ्तारी के एक दिन बाद आया है। इसके साथ ही बी.एस. येदियुरप्पा ने हिंदुत्ववादी संगठनों से ऐसी गतिविधियों को रोकने का आग्रह किया है।

बता दें कि बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा कि 'मेरी इच्छा है कि हिंदू और मुसलमान एक मां की संतान के रूप में एक साथ रहें। अगर कुछ असामाजिक तत्व इसमें बाधा डाल रहे हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए। सीएमभी इस संबंध में आश्वासन दे चुके हैं।' साथ ही बी.एस. येदियुरप्पा ने कहा कि 'कम से कम अब से ऐसी अप्रिय घटनाएं नहीं होनी चाहिए और हमें एकजुट रहना चाहिए। मैं इस तरह की गतिविधियों में शामिल लोगों से भी ऐसे रोकने की अपील करूंगा।'

बता दें कि कर्नाटक में हिंदुत्ववादी संगठनों ने शहर में मंदिरों के पास मौजूद मस्लिम समुदाय के लोगों की दुकानों पर प्रतिबंध लगाने, हलाल मांस के बहिष्कार और फलों के कारोबार में मुस्लिम एकाधिकार को समाप्त करने का आह्वान किया है। यही नहीं मस्जिदों में लाउडस्पीकरों पर भी कार्रवाई की मांग भी की जा रही है। इसके अलावा मुस्लिम शिल्पकार द्वारा बनाई गई मूर्तियों और इस समुदाय के सदस्यों द्वारा संचालित टैक्सियों और ऑटो का बहिष्कार करने का भी आह्वान कई संगठनों ने किया है।

Sakshi
Next Story
Share it