महाराष्ट्र

शिवसेना के बदले सुर, सोनिया गांधी की तारीफ की, कहा- CAA से हिंदू-मुसलमानों में खाई पैदा कर लाभ ले रही BJP

Arun Mishra
29 Dec 2019 3:53 AM GMT
शिवसेना के बदले सुर, सोनिया गांधी की तारीफ की, कहा- CAA से हिंदू-मुसलमानों में खाई पैदा कर लाभ ले रही BJP
x
पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में अब शिवसेना ने कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी की तारीफ की है.

महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी के बेमेल गठबंधन के बल पर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर आसीन हुए उद्धव ठाकरे के तो अब सुर भी बदलने लगे हैं. संभवतः यही वजह है कि दशकों तक कांग्रेस का विरोध करने वाली शिवसेना अब उसकी प्रशंसा करने लगी है. पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में अब शिवसेना ने कांग्रेस की अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी की तारीफ की है. इसमें लिखा है कि सोनिया गांधी के अलग दृष्टिकोण के बल पर ही महाराष्‍ट्र में सत्‍ता परिवर्तन संभव हुआ. इसके साथ ही शिवसेना ने दशकों तक साथ रही बीजेपी पर नागरिकता संशोधन विधेयक और एनआरसी को लेकर निशाना साधा है. आरोप लगाया है कि सीएए से हिंदू-मुसलमानों में खाई पैदा कर राजनीतिक लाभ लिया जा रहा है.

सीएए को बताया हिंदू-मुसलमानों में भेद करने वाला

गौरतलब है कि शिवसेना और बीजेपी की तल्‍खी कम होने का नाम नहीं ले रही है. 'सामना' में प्रकाशित संपादकीय में सीएम उद्धव की पार्टी ने लिखा है, 'उद्धव ठाकरे और शरद पवार बीजेपी के विरोध में खड़ा होना तय कर लें, तो पूरे देश में उन्‍हें भारी समर्थन मिलेगा.' नागरिकता संशोधन कानून और और एनआरसी को लेकर पूरे देश में मचे बवाल को लेकर भी भाजपा पर निशाना साधा है. लिखा गया है कि पूरे देश में आग लगी है, फिर भी सब कुछ ठीक-ठाक होने की बात कही जा रही है. ऐसे लोगों को आत्‍मचिंतन करने की जरूरत है्. आगे लिखा गया है कि हिंदू-मुसलमान में खाई पैदा कर इसका राजनीतिक लाभ लिया जा रहा है.

बीजेपी-शिवसेना के बीच चौड़ी हुई खाई

इस तल्खी की वजह से ही पूर्व सीएम और अब विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता भी सूबे के नए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधने से नहीं चूकी थीं. गौरतलब है कि साथ-साथ चुनाव लड़ने के बावजूद बीजेपी-शिवसेना सरकार बनाने में असफल रही और शिवसेना ने कांग्रेस-एनसीपी के समर्थन से सरकार बना ली. हालांकि अभी उद्धव ठाकरे मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो सका है. सूत्रों का कहना है कि पेंच महत्वपूर्ण विभागों को लेकर फंसा हुआ है. हालांकि उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही अड़टनें दूर कर विस्तार किया जाएगा.

Tags
Arun Mishra

Arun Mishra

Sub-Editor of Special Coverage News

Next Story