Top
Begin typing your search...

भाविना पटेल ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों में इतिहास रचा; भारत के लिए टेबल टेनिस में अब तक का पहला पदक जीता..

भाविना अपने शुरुआती ग्रुप स्टेज मैच में भी चीन की खिलाड़ी के खिलाफ हार गई थी। लेकिन, प्री-क्वार्टर चरण के बाद भाविना ने जो प्रदर्शन किया, वह उल्लेखनीय है।

भाविना पटेल ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों में इतिहास रचा; भारत के लिए टेबल टेनिस में अब तक का पहला पदक जीता..
X

PTI

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पीआईबी, नई दिल्ली : केंद्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री अनुराग ठाकुर इतिहास में वापस चले गए और कुछ यादगार पलों को याद किया जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भाविना के साथ साझा किए थे। केंद्रीय मंत्री ने 2010 की एक तस्वीर साझा की जिसमें भाविना और उनकी साथी सोनलबेन पटेल को गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सम्मानित किया। ठाकुर ने अपने ट्विटर पर लिखा, "सोनल और भाविना 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए जा रहे थे। मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुलाकात की और उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए प्रोत्साहित किया।"

"खेल संस्कृति का निर्माण, प्रत्येक खेल और खिलाड़ियों का समर्थन करना एक जीवन पर्यंत प्रयास रहा है, जो आज भी जारी है। इसके सुखद परिणाम मिल रहे हैं। खिलाड़ियों के समर्थक प्रधानमंत्री!" प्रधानमंत्री ने रविवार को सवेरे, झोउ यिंग के खिलाफ फाइनल मैच के बाद भाविना को फोन किया और रजत पदक जीतने पर बधाई दी।

क्लास 4 वर्ग में दुनिया की 12वें स्थान पर मौजूद 34 वर्षीय भारतीय पैरा-टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविना का फाइनल में यिंग के खिलाफ कड़ा मुकाबला था। स्वर्ण पदक के मैच में भाविना को विश्व की नंबर एक खिलाड़ी से 0-3 से हार का सामना करना पड़ा। विश्व की नंबर एक खिलाड़ी यिंग के पास अब चार पैरालंपिक खेलों में छह स्वर्ण पदक हैं। भाविना अपने शुरुआती ग्रुप स्टेज मैच में भी चीन की खिलाड़ी के खिलाफ हार गई थी। लेकिन, प्री-क्वार्टर चरण के बाद भाविना ने जो प्रदर्शन किया, वह उल्लेखनीय है।

पैरालंपिक खेलों में पहली बार भाग ले रहीं भाविना ने अपने से ऊपर वरीयता वाली ब्राजील की जॉयस डी ओलिवेरा के खिलाफ अंतिम 16 के मैच में सीधे गेम में 3-0 से जीत हासिल की थी। क्वार्टर फाइनल में सर्बिया की बोरिसलावा पेरीक, भाविना की प्रतिद्वंद्वी थीं, जो स्वर्ण पदक के साथ 2016 रियो पैरालंपिक खेलों में रजत पदक विजेता भी थीं। भारतीय खिलाड़ी भाविना ने इस मुकाबले में भी 3-0 से जीत हासिल की। सेमीफाइनल में भाविना ने 2012 पैरालंपिक खेलों की स्वर्ण पदक विजेता और 2016 पैरालंपिक खेलों की रजत पदक विजेता झांग मियाओ को 3-2 से हराया।

भाविना को भारत सरकार द्वारा अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए 2.85 लाख रुपये की वित्तीय सहायता टेबल टेनिस की टेबल खरीदने टीटी रोबोट 'बटरफ्लाई - एमिकस प्राइम' के साथ-साथ एक 2.74 लाख रुपये की ओटोबॉक व्हीलचेयर की खरीद के लिए यथासंभव सहायता प्रदान की गई है।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it